BREAKING NEWS

त्यौहार में उमड़ी भीड़ का बेजा फायदा उठा रहे बस संचालक

त्यौहार में उमड़ी भीड़ का बेजा फायदा उठा रहे बस संचालक
मुलताई। इंदौर से मुलताई के लिए आने वाली बसों में इन दिनों त्योहारों का फायदा उठाते हुए किराया तिगुना कर दिया गया है। ऐसी स्थिति में इंदौर से आने वाले विद्यार्थियों सहित अन्य लोगों पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि कुछ समय से बसों में सीधे तौर पर सामान्य किराये से दुगना तथा तिगुना किराया वसूल किया जा रहा है जो एक सप्ताह में और अधिक किया जा सकता है। नागपुर इंदौर, छिन्दवाड़ा, इंदौर सहित अन्य लंबे रूट पर चलने वाली बसों में त्योहारों के आते ही अचानक किराए में जमकर बढ़ोतरी कर दी जाती है ऐसी स्थिति में लोगों की मजबूरी का पूरी तरह फायदा उठाते हुए खुली लूट मच जाती है जिससे मजबूरी में विद्यार्थियों सहित अन्य लोगों को अधिक किराया वहन करना पड़ता है। पूरे मामले में आश्चर्यजनक रूप से आरटीओ द्वारा मनमाना किराया वसूलने वाली बसों पर कोई कार्यवाही नहीं की जाने से हर समय त्योहारों पर यह खुली लूट बदस्तूर जारी रहती है। बताया जा रहा है कि सामान्य तौर पर इंदौर से मुलताई का किराया 350 से 400 रूपए रहता है लेकिन फिलहाल दीपावली त्योहार के कारण यह किराया 900 से 1200 रूपए कर दिया गया है। त्योहारों पर रेल में आरक्षण नहीं मिलने पर बड़ी संख्या में विद्यार्थी सहित अन्य लोगों को मजबूरी में एैसी बसों में सफर करते हुए भारी किराया वहन करना पड़ता है। वहीं दीपावली के बाद जाने के लिए भी इतना ही किराया देने को मजबूर होना पड़ता है। पूरे मामले में आरटीओ द्वारा निर्धारित किराया दरों को ताक पर रखकर जितना अधिक से अधिक हो सके निजी बसों द्वारा किराया वसूला जाता है जिससे बस संचालकों की चांदी हो जाती है। लंबे रूट की निजी बसों में यात्रा करने वाले यात्रियों ने बताया कि फिलहाल इंदौर का 900 से 1000 हजार रूपए देना पड़ रहा है क्योंकि इसके सिवाय कोई दूसरा चारा नही है बस इसी का फायदा बस संचालक उठा रहे हैं लेकिन इसके शिकायत कहां करें और कैसे करें यह समझ नही आ रहा है इसलिए बस संचालकों के हौसले भी बुलंद नजर आ रहे हैं।