BREAKING NEWS

बालिकाओं की समझ परखने रखी क्विज और निबंध प्रतियोगिता

बालिकाओं की समझ परखने रखी क्विज और निबंध प्रतियोगिता
बैतूल। पोषण जागरूकता एवं स्वच्छता एकीकृत बाल विकास परियोजना बैतूल (शहरी) अंतर्गत राष्ट्रीय पोषण की गतिविधियों का आयोजन किया गया। सुभाष माध्यमिक शाला कोठीबाजार, बहुउद्देश्यीय मा.शा. टिकारी एवं आईटीआई मा.शा. सदर में पोषण पाठशाला का आयोजन किया गया। जिसमें शालेय परिसर में अध्ययनरत किशोरी बालिकाओं के पोषण अध्ययनरत किशोरी बालिकाओं के पोषण जागरूकता एवं स्वच्छता थीम के तहत पोषण आहार में विविधता का महत्व बताया गया। सुपौष्टिक आहार की दी समझाईश परियोजना अधिकारी श्रीमति कल्पना जोनाथन के मार्गदर्शन में सेक्टर पर्यवेक्षकों सौ. श्वेता वालंबे, सौ. नम्रता सूर्यवंशी एवं कु. शिवांगी नामदेव ने अपने-अपने सेक्टर की शालाओं में बालिकाओं को पौष्टिक व्यंजनों की प्रदर्शनी में बालिकाओं से एनीमिया एवं कुपोषण को दूर करने हेतु आवश्यक फल, सब्जियां, कार्बोहाइडे्रट, प्रोटीन, वसा, खनिज लवण, विटामिन आदि युक्त पौष्टिक आहार के नियमित सेवन की समझाईश दी। उन्हें बताया कि प्रति सप्ताह आयरन की एक गोली व विटामिन सी युक्त पीले व खट्टे फलों के सेवल से एनीमिया से मुक्त रहें। प्रोजेक्टर पर दिखाई फिल्म बालिकाओं को प्रोजेक्टर पर एनीमिया, कुपोषण व पौष्टिक आहार से जुड़ी फिल्मों का प्रदर्शन कर महत्वपूर्ण जानकारियां दी। क्विज एवं निबंध प्रतियोगिता के माध्यम से बालिकाओं की समझ को परखा और विजेता बालिकाओं को पुरूस्कृत किया। कार्यक्रम में स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाएं एवं विकासखंड शिक्षा अधिकारी भी उपस्थित थे। पोषण की आंगनवाड़ी स्तर गतिविधियों में परियोजना की समस्त 89 आंगनवाड़ी केन्द्रों में स्वस्थ शिशु प्रतियोगिता और फैन्सी डे्रस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। विनोबा वार्ड, लोहिया वार्ड एवं मालवीय वार्ड में सामूहिक रूप से प्रतियोगिता आयोजित कर स्वस्थ शिशुओं को पुरूस्कृत किया गया। बच्चों का हर कराए वजन कार्यक्रम में सेक्टर पर्यवेक्षकों सौ. श्वेता वालंबे, सौ. नम्रता सूर्यवंशी और ईसीसीई समन्वयक, सौ. टीना शर्मा ने उपस्थित हितग्राहियों एवं अन्य महिलाओं को फिल्म प्रदर्शन के माध्यम से पोषण आहार, मूनगा, टेक होम राशन की उपयोगिता के बारे में बताया। माताओं को अपने बच्चों के सही तरीके से खान-पान कराने व प्रतिमाह वजन कराने की समझाईश दी। स्तनपान के तरीके व व्यवहार की सलाह दी। कार्यक्रम में संबंधित वार्ड की कार्यकर्ताएं एवं सहायिकाएं उपस्थित थी। सुपौष्टिक आहार की दी समझाईश परियोजना अधिकारी श्रीमति कल्पना जोनाथन के मार्गदर्शन में सेक्टर पर्यवेक्षकों सौ. श्वेता वालंबे, सौ. नम्रता सूर्यवंशी एवं कु. शिवांगी नामदेव ने अपने-अपने सेक्टर की शालाओं में बालिकाओं को पौष्टिक व्यंजनों की प्रदर्शनी में बालिकाओं से एनीमिया एवं कुपोषण को दूर करने हेतु आवश्यक फल, सब्जियां, कार्बोहाइडे्रट, प्रोटीन, वसा, खनिज लवण, विटामिन आदि युक्त पौष्टिक आहार के नियमित सेवन की समझाईश दी। उन्हें बताया कि प्रति सप्ताह आयरन की एक गोली व विटामिन सी युक्त पीले व खट्टे फलों के सेवल से एनीमिया से मुक्त रहें। प्रोजेक्टर पर दिखाई फिल्म बालिकाओं को प्रोजेक्टर पर एनीमिया, कुपोषण व पौष्टिक आहार से जुड़ी फिल्मों का प्रदर्शन कर महत्वपूर्ण जानकारियां दी। क्विज एवं निबंध प्रतियोगिता के माध्यम से बालिकाओं की समझ को परखा और विजेता बालिकाओं को पुरूस्कृत किया। कार्यक्रम में स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाएं एवं विकासखंड शिक्षा अधिकारी भी उपस्थित थे। पोषण की आंगनवाड़ी स्तर गतिविधियों में परियोजना की समस्त 89 आंगनवाड़ी केन्द्रों में स्वस्थ शिशु प्रतियोगिता और फैन्सी डे्रस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। विनोबा वार्ड, लोहिया वार्ड एवं मालवीय वार्ड में सामूहिक रूप से प्रतियोगिता आयोजित कर स्वस्थ शिशुओं को पुरूस्कृत किया गया। बच्चों का हर कराए वजन कार्यक्रम में सेक्टर पर्यवेक्षकों सौ. श्वेता वालंबे, सौ. नम्रता सूर्यवंशी और ईसीसीई समन्वयक, सौ. टीना शर्मा ने उपस्थित हितग्राहियों एवं अन्य महिलाओं को फिल्म प्रदर्शन के माध्यम से पोषण आहार, मूनगा, टेक होम राशन की उपयोगिता के बारे में बताया। माताओं को अपने बच्चों के सही तरीके से खान-पान कराने व प्रतिमाह वजन कराने की समझाईश दी। स्तनपान के तरीके व व्यवहार की सलाह दी। कार्यक्रम में संबंधित वार्ड की कार्यकर्ताएं एवं सहायिकाएं उपस्थित थी।