BREAKING NEWS

जूनापानी में बच्ची की मौत के बाद संवेदनाएं जताने नही पहुंचा कोई अधिकारी

जूनापानी में बच्ची की मौत के बाद संवेदनाएं जताने नही पहुंचा कोई अधिकारी
मुलताई। ग्राम जूनापानी में कुत्तों के द्वारा बच्ची को नोच कर उसकी जान लेने के मामले में दूसरे दिन कोई भी जिम्मेदार अधिकारी गांव नही पहुंचा और ना ही इस दिशा में कोई आदेश ही जारी किए गए। पूरे मामले में पंचायत द्वारा गांव में कुत्तों से सचेत रहने की मुनादी कर औपचारिकता पूर्ण कर दी गई। जूनापानी में एक बच्ची की मौत तथा दूसरी बच्ची के गंभीर घायल होने के बाद लोगों में कुत्तों का भय समा गया है तथा ग्रामीण अपने बच्चों को बाहर नही निकलने दे रहे हैं। शाम होने पर गांव में कुत्तों के झुंड घूमते नजर आ रहे हैं जिसमे बताया जा रहा है कई कुत्ते पागल हो गए हैं जिससे गंभीर घटना हुई। इस मामले में पंचायत सचिव राजेश झरबड़े ने बताया कि गांव में गुरूवार शाम सोनाक्षी पिता चैतराम धुर्वे उम्र 4 साल को कुत्ते ने काट लिया था जिससे उसकी मौत हो गई वहीं किरण पिता भीमराव उम्र 8 वर्ष को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया। सचिव ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से पंचायत द्वारा मुनादी कराई गई है कि कुत्तों से सतर्क रहें साथ ही बच्चों को की सुरक्षा का भी ध्यान रखे लेकिन पागल तथा आवारा कुत्तों को खदेडऩे अथवा अन्य गतिविधियों के लिए पंचायत के पास कोई स्पष्ट गाईड लाईन नही है इसलिए अधिकारियों से मार्गदर्शन लिया जा रहा है। लगातार बच्चों को कर रहे घायल पूर्व में नगर में भी आवारा कुत्तों द्वारा कई बच्चों को घायल किया जा चुका है वहीं क्षेत्र में भी अब कुत्तों का आतंक चरम पर है। गांवों में कुत्तों के झुंड के झुंड नजर आ रहे हैं जिसमें कई कुत्ते पागल भी हो चुके हैं जिसके काटने मात्र से गंभीर रूप से बच्चे घायल हो सकते हैं लेकिन ना तो कुत्तों को पकड़ा जा रहा है और ना ही उन्हे गांव से बाहर खदेड़ा ही जा रहा है जिससे कुत्तों का आतंक दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है जिससे ग्रामीण भयभीत हैं। इनका कहना है- कुत्तों द्वारा मासूम बच्ची की जान लेने से ग्रामीणों में भय व्याप्त है इसलिए गांव में मुनादी की जा रही है ताकि लोग कुत्तों से सतर्क रहें तथा बच्चों की सुरक्षा पर ध्यान दें। राजेश झरबड़े सचिव ग्राम पंचायत जूनापानी