BREAKING NEWS

अतिवृष्टि से बर्बाद हो गई मक्का-सोयाबीन की फसल

अतिवृष्टि से बर्बाद हो गई मक्का-सोयाबीन की फसल
आमला। लगातार हो रही वर्षा से ब्लॉक की खरीफ की फसल पूरी तरह चौपट हो गई है। किसान चिंतित है न तो बीमा राशि का कुछ अता पता है और न ही मुआवजा कब मिलेगा इसकी जानकारी किसानों को है और मुआवजा मिलेगा भी या नही इसकों लेकर किसान चिंतित है। किसानों के खेत में खड़ी मक्के की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई है। मक्के के भुट्टो में दाने में अंकुरित होकर भुटटे के पत्ता को चिरते हुऐ बाहर निकलने लगे है। किसानों की धान की फसल भी चौपट हो गई है इधर बारिश रूकने का नाम नहीं ले रही है। यदि किसान फसल की कटाई करे तो उसे चार गुना अधिक लागत लगेगी। किसान संकट में है और जल्द से जल्द मुआवजा और बीमा राशि की मांग कर रहे है ग्राम परसोड़ी के किसानों ने बताया कि खेतों में तीन माह से पानी भरा हुआ है। सोयाबीन के पौधे पूरी तरह गल गये है और फसल काटने की स्थिति में नही है अब किसानों के पास मुआवजा ही एक रास्ता है। यदि समय रहते मुआवजा राशि नही मिली तो किसानों के सामने आर्थिक संकट उत्पन्न हो जाऐगा। किसान जयपाल मोढकर, अंगद यादव, विश्राम ढबाके ने बताया कि खेतों की फसल चौपट हो गई है जल्द से जल्द सरकार किसानोंं को आर्थिक सहायता दे। हुआ है भारी नुकसान ग्राम कचरबोह किसान अभिराम यादव ने बताया कि हमने मक्कें की फसल बमुश्किल काट ली थी। घर में लाकर रख ली थी लेकिन लागातार बारिश होने के कारण मक्का सुख नही पाया और अंकुरित हो गया। जिससे भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। मुश्किल में है किसान किसान लखन यादव ने बताया कि अतिवृष्टि ने किसानों को मुश्किल में डाल दिया है यदि सरकार ने मदद नही की तो किसानों को कर्ज लेना पड़ेगा या जमीन बेचनी पड़ेगी। सरकार गंभीरता से इस समस्या पर ध्यान दे। इनका कहना... सर्वे हो चुका है रिपोर्ट बनाकर शासन को भेजी जा रही है। साथ ही बीमे के लिए फसल कटाई प्रयोग प्रारंभ है। सी.एल.चनाप एस.डी.एम. मुलताई।