BREAKING NEWS

अयोध्या-फैसले से पहले यूपी में अलर्ट-30 नवंबर तक सरकारी अफसरों की छुट्टियां रद्द

अयोध्या-फैसले से पहले यूपी में अलर्ट-30 नवंबर तक सरकारी अफसरों की छुट्टियां रद्द
लखनऊ/अयोध्या। अयोध्या विवाद मामले में आखिरी सुनवाई आज शाम खत्म हो जाएगी। माना जा रहा है कि 17 नवंबर के पहले अयोध्या पर सुप्रीम फैसला भी आ जाएगा। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने साफ कर दिया है कि अब इस मामले में किसी पक्ष को और वक्त नहीं मिलने वाला है। इधर, संभावित फैसले से पहले यूपी में हलचल तेज हो गई है। अयोध्या में जहां 10 दिसंबर तक धारा 144 लागू है वहीं, राज्य सरकार ने सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की छुट्टियां 30 नवंबर तक रद्द कर दी है। सरकार ने अपने आदेश में सभी अफसरों को अपने-अपने मुख्यालय में बने रहने का निर्देश दिया है। राज्य सरकार के जारी आदेश में छुट्टी रद्द करने का कारण त्योहार बताया गया है लेकिन माना जा रहा है कि अगले महीने अयोध्या पर संभावित फैसले से पहले सरकार ने यह कदम उठाया है। बता दें कि अयोध्या केस में आज आखिरी सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में जबरदस्त गहमागहमी और ड्रामा देखने को मिली। 5 जजों की संविधान पीठ के सामने मुस्लिम पक्षकार के वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने अयोध्या से संबंधित एक नक्शा ही फाड़ दिया। दरअसल, हिंदू पक्षकार के वकील विकास सिंह ने एक किताब का जिक्र करते हुए नक्शा दिखाया था। नक्शा फाडऩे के बाद हिंदू महासभा के वकील और धवन में तीखी बहस हो गई। इससे नाराज चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा था जज उठकर चले जाएंगे। जानें कोर्ट में हुआ क्या हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने कहा, हम अयोध्या रीविजिट किताब कोर्ट के सामने रखना चाहते हैं जिसे रिटायर्ड आईपीएस ऑफिसर किशोर कुणाल ने लिखी है। इसमें राम मंदिर के पहले के अस्तित्व के बारे में लिखा है। किताब में हंस बेकर का कोट है। चैप्टर 24 में लिखा है कि जन्मस्थान के वायु कोण में रसोई थी। जन्मस्थान के दक्षिणी भाग में कुआं था। बैकर के किताब के हिसाब से जन्मस्थान ठीक बीच में था। विकास ने उसी किताब का नक्शा कोर्ट को दिखाया। जिसे धवन ने पांच टुकड़ों में फाड़ डाला। भारत के संविधान पर यकीन अयोध्या मामले में राम जन्मभूमि न्यास से जुड़े राम विलास वेदांती ने कहा, हम किसी कीमत पर रामलला की भूमि को छोडऩा नहीं चाहते हैं। रामलला की विजय हो चुकी है, सिर्फ फैसला आना बाकी है। हमें सुप्रीम कोर्ट पर यकीन है, जजों पर भरोसा है, भारत के संविधान पर विश्वास है। इसके बाद काशी विश्वनाथ मंदिर और कृष्ण जन्मभूमि को देखा जाएगा। मैं अयोध्या की धरती पर किसी मस्जिद का निर्माण नहीं होने दूंगा। मस्जिद बनाना है तो बाहर किसी भी कोने में बनाएं लेकिन अयोध्या की धरती पर मैं किसी मस्जिद का निर्माण नहीं होने दूंगा।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now