BREAKING NEWS

कद छोटा लेकिन काम बड़ा कर रहे मुन्ना भाई सर्किट हाऊस वाले

कद छोटा लेकिन काम बड़ा कर रहे मुन्ना भाई सर्किट हाऊस वाले
बैतूल। कद भी छोटा और नाम भी छोटा(मुन्ना) लेकिन जो काम किया जा रहा है वह नि:संदेह बड़ा ही नहीं बल्कि परोपकारी भी है। जी-हाँ हम बात कर रहे हैं मुन्नाभाई सर्किट हाऊस वाले की जो कि प्रतिदिन प्रात: 6 बजे से कोरोना वारियर्स को चाय पिलाना नहीं भूलते हैं। जिला मुख्यालय पर जहां-जहां शासकीय अधिकारी-कर्मचारी अपनी सेवाएं दे रहे हैं उन्हें नि:शुल्क चाय उपलब्ध कराते हैं। मुन्नाभाई का यह सिलसिला 10 बजे तक चलते रहता है। मुन्ना के बनाए भोजन की तरह ही उनकी चाय भी खूब पसंद की जाती है यही वजह है कि उनकी चाय की अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक रास्ता तकते रहते हैं कि अब मुन्ना भाई चाय लेकर आएंगे और उन्हें पिलाएंगे। मंत्री से लेकर संत्री तक हैं भोजन के कायल मुन्ना भाई सर्किट हाऊस वाले के हाथों से बने भोजन के मुख्यमंत्री से लेकर संत्री तक सभी कायल हैं। उनके हाथों में भोजन पकाने की ऐसी कला है कि जो एक बार भोजन करता है वह बार-बार भोजन करने की सोचता रहता है। मुन्ना भाई की चाय का भी ऐसा ही जादू बरकरार है जो कि वह लॉक डाऊन पीरियड में शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों को जगह पर जाकर पिलाने का पुण्य कार्य कर रहे हैं वह भी बिल्कुल ही नि:शुल्क। इस दौरान मुन्ना भाई द्वारा दी जा रही सेवा की सभी प्रशंसा कर रहे हैं। व्यर्थ नहीं जाता नेकी का फल मुन्ना भाई का मानना है कि नेकी का फल कभी व्यर्थ नहीं जाता है। पांच बेटियों के पिता मुन्ना ने अपनी खाना सामा की नौकरी के पीछे चार बेटियों का घर संसार बसाने के बाद वी भी कोरोना की जंग में स्वंय को सबसे आगे है। सर्किट हाऊस बैतूल का मुख्य खानसामा 24 घंटे की ड्यूटी करने के बाद चाय लेकर अपने सहयोगी साथियों में किसी एक को अपने संग लेकर निकल पड़ता है पुण्य कमाने के लिए। मुन्ना भाई कहते है कि हमारे पवित्र कुरान में लिखा है कि एक हाथ से किए गए परोपकार या दान की $खबर दुसरे हाथ को नहीं होनी चाहिए। रमजान के पवित्र महीने में सेवा और परोपकार को बटोरने वाले मुन्ना भाई कहते है कि नेकी कर दरियां में डालने का जो फल मिलता है मालिक उसी से हमे बीमारियों एवं आफतो से बचाता है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now