BREAKING NEWS

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने 9 मिनट तक जलाए दीये

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने 9 मिनट तक जलाए दीये
बैतूल। कोरोना वायरस के अंधकार के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर देशवासियों ने रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती, टॉर्च और फोन की फ्लैश लाइट जलाई। प्रधानमंत्री ने रविवार को लोगों को याद दिलाने के लिए ट्वीट भी किया था। इससे पहले मोदी ने कोरोना संकट पर अपने तीसरे संबोधन में कहा था कि हमें 5 अप्रैल को अपनी महाशक्ति का जागरण करना है, ताकि लॉकडाउन के दौरान घरों में मौजूद लोग खुद को अकेला महसूस न करें। मोदी की इस अपील का पूरे देश में जबरदस्त असर हुआ और रविवार को रात्रि 9 बजने के चंद मिनटों पहले से ही लोगों ने दीए, टार्च, मोमबत्ती और फ्लैश लाईट जलाने की तैयारी कर ली थी। देशवासियों ने इस 9 मिनट के दौरान अपने-अपने धर्म और मान्यता के अनुसार अपने-अपने धर्म ग्रंथों में दिए गए रक्षा कवचों का पाठ भी किया। कुल मिलाकर रविवार 5 अपै्रल के इस प्रयोग ने कमोबेश पूरे देशवासियों में राष्ट्र धर्म का जज्बा पैदा कर दिया। आने वाले समय में इसके दूरगामी परिणाम होंगे जो देशहित के लिए काम आएंगे। समूचे देश सहित दुनिया भर में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जहां लॉक डाऊन किया जा रहा है वहीं तरह-तरह के युक्तियाँ अपनाई जा रही है ताकि कोरोना के असर को कम कर सकें। यदि हम भारत की बात करें तो एकादशी के बाद आने वाली प्रदोष तिथि पर घर के सामने दीपक जलाने की अति प्राचीनतम परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि प्रदोष पर दीपक जलाने से मृत्यु का भय नहीं रहता है। इसके साथ ही प्रदोष पर दीप जलाने के अलग-अलग तथ्य और तर्क ज्योतिषाचार्यों, वैज्ञानिकों, पंडितों द्वारा दिए गए हैं। इस सबसे इतर विभिन्न तिथियों सहित तीज-त्यौहारों पर दीपक जलाना हिन्दु धर्म का हिस्सा है। इस धर्म को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में प्रदोष पर 5 अप्रैल 2020 दिन रविवार को 9 बजे 9 दीपक जलाने का आव्हान कर इसे राष्ट्रधर्म बना डाला। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए इस आव्हान का अक्षरश: भारतवासियों ने पालन भी किया। 9 बजने के पूर्व ही नागरिकों ने अपने-अपने घरों- शासकीय दफ्तरों की लाईट बंद कर दी थी। इसके बाद जैसे ही घड़ी ने 9 बजाए सभी ने एक साथ अपने मोबाइल की फ्लैश लाइट, मोम बत्ती, दीपक जलाना प्रारंभ कर दिया था जो कि 9 बजकर 9 मिनट से अधिक समय तक जलते रहे। इस दौरान नागरिक महामुत्युन्जय मंत्र, गायत्री मंत्र, रामरक्षास्त्रोत आदि सिद्ध मंत्र भी पढ़ते हुए दिखाई दिए। वहीं नागरिकों द्वारा आतिशबाजी कर यह संदेश देने का प्रयास किया कि इस विषम परिस्थिति में समूचे देशवासी एकजुट हैं और एकजुट रहेंगे। नागरिक अपने-अपने दरवाजे, बालकनी पर दीपक जलाते हुए नजर आए।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now