BREAKING NEWS

गुरूनानक जयंती पर ऐतिहासिक गुरूद्वारे में हुई आकर्षक साज सज्जा

गुरूनानक जयंती पर ऐतिहासिक गुरूद्वारे में हुई आकर्षक साज सज्जा
मुलताई। ताप्ती नगरी को सिक्ख धार्मिक नगरी घोषित किया गया है। सिक्ख धार्मिक नगरी में एतिहासिक गुरूद्वारे के कारण यहां दूर-दूर से श्रद्धालु मत्था टेकने के लिए आते हैं। गुरूनानक देव जी जब नगर में जब आए थे तो वे 14 दिन ताप्ती किनारे रूके थे। इसी कारण नगर को सिक्ख आस्था नगरी का नाम दिया गया है। मंगलवार गुरूनानक जयंती पर गुरू द्वारे में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। जिसमें सभी सामाजिक बंधु भी भाग लेते हैं। नगर का धार्मिक महत्व सभी लोग जानते हैं। ताप्ती सरोवर के कारण मुलताई को पूरे देश में जाना जाता है, ताप्ती की उद्गम स्थली होने से मुलताई को पवित्र नगरी भी घोषित किया गया है। ऐसे में अब इसकी ख्याती दूर-दूर तक फैल रही है। मुलताई को पूरे प्रदेश में एक और कारण से जाना जाता है, मुलताई को सिक्ख आस्था नगरी भी घोषित किया गया था। नगर के एतिहासिक गुरूद्वारे के कारण और नगर में गुरूनानक देव के आने के कारण नगर को उक्त गौरव प्राप्त हुआ है। सालों पहले नगर में गुरूनानक देव जी आए थे, वे ताप्ती तट पर 14 दिन रूके थे और उन्होंने यहा पूजन भी किया था। सिक्ख आस्था नगरी में स्थित ऐतिहासिक गुरूद्वारे में मत्था टेकने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं, नगर में गिने-चुने सिक्ख परिवार है, लेकिन इसके बावजूद इन परिवारों ने सालों से उक्त परंपरा को जीवित रखा है। सभी के प्रयासों से गुरूद्वारे का भव्य निर्माण कार्य भी किया गया है। जिसमें सभी ने सहयोग भी प्रदान किया है। आज गुरूद्वारे में होंगे विभिन्न आयोजन गुरूनानक जयंती पर समाजिक बुधंओं द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन नगर में किया जाता है। गुरूनानक जयंती पर नगर में मंगलवार को सामाजिक बंधुओं द्वारा प्रभात-फेरी निकाली जाएगी। प्रभातफेरी गुरूद्वारे से प्रारंभ होकर ताप्ती सरोवर की प्रदक्षिणा करेगी। इसके अलावा गुरूनानक जयंती पर विशेष अरदास का आयोजन भी गुरूद्वारे में किया गया है। जिसमें सभी सामाजिक बंधु उपस्थित रहेंगे। इसके बाद दोपहर में गुरूद्वारे में लंगर का आयोजन भी किया गया है। उक्त कार्यक्रम में समाजिक बंधुओं ने अधिक से अधिक लोगों से कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now