BREAKING NEWS

घोघरी जलाशय के पानी पर नहीं की जाने दी जाएगी राजनीति

घोघरी जलाशय के पानी पर नहीं की जाने दी जाएगी राजनीति
मुलताई(बीजेडयून्यूज)। घोघरी जलाशय का पानी मुलताई क्षेत्र के लोगों को नहीं मिले इसलिए राजनीति की जा रही है जो बर्दाश्त नहीं करंेगे। उक्त मांग को लेकर बड़ी संख्या में ग्रामीण शनिवार तहसील कार्यालय पहुंचे जहां एसडीएम सीएल चनाप को ज्ञापन सौंपकर घोघरी जलाशय से मुलताई क्षेत्रवासियों को पेयजल उपलब्ध कराने की मांग की। कुड़लिक राव डांगे, शिवशंकर मानकर, कमलेश पाटिल, साहेबराव मुंदेकर, सुभाष डोंगरे, माधोलाल टेकपुरे सहित बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों ने बताया कि घोघरी बांध ताप्ती नदी पर बनाया जा रहा है जिसका उद्गम स्थल मुलताई क्षेत्र है। उक्त बांध में मुलताई क्षेत्र का ही पानी पहुंचेगा लेकिन कुछ लोगों द्वारा राजनैतिक स्वार्थवश उक्त जलाशय का पानी पेयजल के लिए नही मिलने दिया जा रहा है। किसानों के अनुसार घोघरी डेम की डीपीआर में कुल सिंचाई का जितना रकबा प्रस्तावित है पेयजल हेतू पानी लेने के बाद भी इतने ही रकबे में सिंचाई होगी तथा एक इंच भूमि की भी सिंचाई इस योजना से कम नहीं होगी क्योंकि पेयजल हेतु पानी पूर्व से ही डीपीआर में प्रस्तावति है। किसानों के अनुसार नहर के लेवल के नीचे से डेड स्टोरेज से पानी लिया जाएगा जिससे सिंचाई के रकबे पर इसका कोई प्रभाव नही पड़ेगा। किसानों ने एसडीएम चनाप को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा भी कई प्रकरणों में स्थापित किया गया है जिस क्षेत्र पानी होता है उस क्षेत्र का सर्वप्रथम अधिकार होता है। साथ ही यह भी स्थापति तथ्य है कि बांध के पानी पर पहली प्राथमिकता पेयजल की होगी इसके उपरांत सिंचाई एवं अन्य उपयोग के लिए पानी दिया जाएगा। इसके पूर्व मुलताई विधानसभा क्षेत्र में ताप्ती नदी पर निर्मित पारसडोह बांध का पानी मुलताई विधानसभा क्षेत्र के किसानों का हित मारकर बैतूल विधानसभा क्षेत्र के किसानों को दिया गया है। लेकिन मुलताई क्षेत्र के किसानों ने कभी इसको मुद्दा नहीं बनाया गया। लेकिन घोघरी बांध में कुछ रसूखदार लोगों द्वारा ओछी राजनीति करते हुए मुलताई क्षेत्र के लोगों को पेयजल के लिए वंचित करने का प्रयास किया जा रहा है जिसका विरोध मुलताई विधानसभा क्षेत्र के लोग करेगें। मुलताई क्षेत्र के ग्रामीणों ने यह चेतावनी दी है कि यदि उनके हक पर कुठाराघात किया जाएगा तो वे चुप नही बैठेगें तथा विरोध प्रदर्शन के साथ कानूनी लड़ाई लडऩे से भी नही चूकेेगें।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now