BREAKING NEWS

चमकविहीन बताकर एफसीआई ने लौटाया 1 हजार क्विंटल गेहूं

चमकविहीन बताकर एफसीआई ने लौटाया 1 हजार क्विंटल गेहूं
सारनी। समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी के तहत सारनी की आदिम जाति सेवा सहकारी सोसाइटी में खरीदी की जा रही है, लेकिन रविवार को फूड कार्पोरेशन आफ इंडिया यानी एफसीआई ने सारनी सोसाइटी द्वारा खरीदे गए दो ट्रक गेहूं को यह कहकर लौटा दिया कि इसका रंग खराब है और यह चमकविहीन है। इसके बाद अब सोसाइटी से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदने का काम रुकने के आसार दिखाई दे रहे हैं। अब नागरिक आपूर्ति निगम, एफसीआई और सोसाइटी के बीच नया विवाद शुरू हो गया है। शहर के मोरडोंगरी रोड के पास स्थित आदिम जाति सेवा सेहकारी सोसाइटी में पंजीकृत 512 किसानों से खरीदी करनी है। इसमें से समिति ने 280 किसानों से तकरीबन 10634 क्विंटल खरीदी हो चुकी है। वहीं 9730 क्विंटल का परिवहन हो चुका है। इसमें से दो ट्रकों में भरकर तकरीबन 1 हजार क्विंटल एफसीआई को भेजा गया, लेकिन एफसीआई ने यह कहकर इसे लौटा दिया कि गेहूं का रंग खराब है। गेहूं की गुणवत्ता में 70 फीसदी रंग कम होने तक की खरीदी को शासन ने मान्य किया है, लेकिन एक वाहन में 76 फीसदी और दूसरी में 79 फीसदी थी। ऐसे में खरीदी रुक सकती है। 232 किसानों की खरीदी पर संकट के बादल आदिम जाति सेवा सहकारी समिति पाटाखेड़ा में कुल 512 किसानों को पंजीकृत किया गया था। इसमें से 280 किसानों की तो खरीदी हो चुकी है, लेकिन 232 किसानों की खरीदी पर अब संकट मंडारने लगा है। गेहूं का रंग खराब होने के कारण अब सोसाइटी खरीदी में हाथ पीछे खींच सकती है। इनका कहना... सोसाइटी में किसानों द्वारा लाया गया अनाज खरीदा जा रहा है। इसमें रंग या क्वालिटी टेस्ट करने का कोई पैरामीटर नहीं है। एफसीआई ने दो ट्रक वापस भेज दिए हैं। इसके बाद अब खरीदी रोककर वरिष्ठ कार्यालय से बात की जाएगी। महेश पवार, प्रबंधक आदिम जाति सेवा सहकारी समिति सारनी

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now