BREAKING NEWS

जिद पर अड़े सरकार और बस आपरेटर में मरण हो रही कामगारों की

जिद पर अड़े सरकार और बस आपरेटर में मरण हो रही कामगारों की
बैतूल। सरकार और बस आपरेटर अपनी-अपनी जिद पर पड़े हुए हैं। इस जिद की वजह से जहां समूचे प्रदेश में बस परिवहन सेवा प्रारंभ नहीं हो पा रही है वहीं चालक, परिचालक, हेल्पर सहित अन्य कामगारों के सामने भूखे मरने की नौबत आ गई है। सरकार लॉकडाऊन पीरियेड का टैक्स बस आपरेटरों से वसूलना चाहती है जबकि बस आपरेटरों का कहना है कि जब बसें चली ही नहीं तो फिर टैक्स किस बात का। इसी जिद के चलते परिवहन सेवाएं प्रदेश में ठप्प पड़ी है और उसका खामियाजा इनसे जुड़े कामगारों को उठाना पड़ रहा है। कामगारों ने आज कलेक्ट्रेट पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपा और बसों का टैक्स माफ करने, तीन माह का राशन देने, दस हजार रुपए खाते में डालने की सरकार से मांग की। आंदोलन की दी चेतावनी सरकार और बस ऑपरेटर्स के बीच फंसे टैक्स माफी के पेंच में पूरे प्रदेश के हजारों कामगार पिस रहे है। यात्री बसों का संचालन न होने से बसों के ड्राइवर, कंडक्टर, क्लीनर से लेकर हम्माल और एजेंटों के सामने भूखा मरने की नौबत आ गयी है। इसी से नाराज एजेंटों, हम्मालों और ड्राइवर, कंडक्टरों ने शुक्रवार बैतूल में कलेक्टोरेट पहुंचकर अपनी पीड़ा बयान की। इन कामगारों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर उनकी मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने मांगे न मानने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है। प्रशासन को दी चेतावनी लॉकडाउन और उसके बाद बस संचालन के बन्द होने से बेरोजगार हुए ये लोग आज कलेक्टोरेट पहुचे और सरकार से मांग की है कि सरकार उन्हें तीन तीन महीने का राशन और खातों में दस-दस हजार की रकम उपलब्ध कराए। इन कामगारों ने चेतावनी दी है कि सोमवार तक उनकी मांगों पर फैसला नही लिया जाता है तो वे मंगलवार को जिले भर के कामगारों को इक_ा कर जिला मुख्यालय पर बड़ा आंदोलन शुरू करेंगे। बस ऑपरेटर्स से जुड़े इन कामगारों को कांग्रेस संगठन ने भी सहयोग का भरोसा देते हुए आंदोलन से जुडऩे की हिमायत की है। बेरोजगारी में एक साथी की हुई मौत प्रदेश कांग्रेस कमिटी के सचिव समीर खान ने बताया कि कांग्रेस इन कामगारों के साथ है।अगर उनकी मांगें नही मानी गयी तो मंगलवार से जिले भर के बस आपरेटर सेवा से जुड़े कर्मचारी बैतूल में जंगी प्रदर्शन करेंगे।जिसकी जिम्मेदारी शासन की होगी। इधर बस एजेंट जुनैद की माने तो इस बेरोजगारी से तंग होकर उनके एक साथी की मौत हो गयी है और उनके परिवार भुखमरी का सामना कर रहे है। आपको बता दे कि अनलॉक 1 में सरकार ने बस ऑपरेटर्स को 50 फीसदी सवारी के साथ बसों के संचालन की अनुमति दे दी है।।लेकिन बस आपरेटर इसे घाटे का सौदा बता रहे है। उन्होंने लाकडाउन अवधि का रोड टैक्स माफ करने की मांग की है। लेकिन इसे अब तक न माने जाने से पूरे प्रदेश में यात्री बसो के पहिये थमे हुए है।

Betul News Copyright © 2021. All Rights Reserved

Chat Now