BREAKING NEWS

टीम जनआस्था खड़ी है जरुरत मंदो के साथ -दिव्यांग-विधवा-बुजुर्ग दम्पत्तियों को भेंट किया राशन

टीम जनआस्था खड़ी है जरुरत मंदो के साथ -दिव्यांग-विधवा-बुजुर्ग दम्पत्तियों को भेंट किया राशन
बैतूल। घड़ी मुश्किल है... स्थिति विपरित है... देश पर संकट है... महामारी बन चुके कोरोना वायरस जिंदगी को लील रहा है। ऐसे में समूचे भारत में घोषित लॉक डाऊन से जिंदगी थम सी गई है। सक्षम लोगों को तो लॉक डाऊन से फर्क नहीं पड़ रहा है लेकिन ऐसे लोग जिनका सुबह से शाम तक मेहनत मजदूरी करने के बाद रात का चूल्हा जलता है ऐसे लोगों के सामने आर्थिक ही नहीं बल्कि दो जून की रोटी का भी संकट आन पड़ा है। ऐसे लोगों की मदद करें और उनकी भूख मिटाने का प्रयत्न करें। दो टाईम नहीं तो कम से कम एक टाईम ही भूख मिटाए ताकि भूखे व्यक्तियों की पेट की ज्वाला शांत हो सकें। वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस कोविड 19 के चलते समूचे लॉक डाऊन के दौरान लावारिस लाशों के अंतिम संस्कार में सहयोग करने वाली टीम जनआस्था ने शहर के ऐसे लोगों को चिन्हित किया जिनके पास राशन खत्म हो चुका था। इनमें विधवा, बुजुर्ग दम्पत्ति सहित विकलांग और मूक बधिर लोग शामिल थे। ऐसे परेशान और वक्त के मारे लोगों को जनआस्था ने 15 दिनों का राशन उपलब्ध कराया है ताकि लॉक डाऊन की अवधि गरीब लोगों की आसानी से कट सकें। टीम जनआस्था ने गुरूवार को शहर के गौठाना, टिकारी, इंदिरा कालोनी सहित अन्य क्षेत्रों में घूमकर चिन्हित जरूरतमंद लोगों तक राशन और सब्जी पहुंचाने का कार्य किया है ताकि विषम परिस्थितियों में टीम जनआस्था की छोटी सी भेंट आर्थिक रूप से अक्षम परिवारों के लिए थोड़ी राहत दे सकें। आधा दर्जन गरीब और अत्यंत जरूरतमंद परिवारों को चिन्हित कर राशन उपलब्ध कराने के दौरान टीम जनआस्था के संजय शुक्ला, इरशाद हिन्दुस्तानी, सीमांत शुक्ला, नितिन यादव, मुकेश सोलंकी, कैलाश बामने मौजूद थे।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now