BREAKING NEWS

डॉक्टर पर कार्यवाही की मांग को लेकर भड़के परिजन

डॉक्टर पर कार्यवाही की मांग को लेकर भड़के परिजन
मुलताई। नगर के पारेगांव रोड स्थित अनमोल क्लिनिक के संचालक डॉ.प्रवीण शुक्ला द्वारा एक महिला का गलत उपचार करने का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। पीडि़त महिला द्वारा पूर्व में जहां थाना प्रभारी तथा एसडीओपी को शिकायती आवेदन सौंपा गया था वहीं दूसरे दिन नगर के जागरूक युवाओं द्वारा भी तहसीलदार से गलत उपचार करने वाले चिकित्सक पर कार्यवाही की मांग की गई थी। घटना में शिकायत के बावजूद डाक्टर पर कोई कार्यवाही नही होने से सोमवार आक्रोशित परिजनों द्वारा पुन: एसडीओपी कार्यालय पहुंचकर एसडीओपी नम्रता सोंधिया से कार्यवाही की मांग की गई। पीडि़ता के परिजनों ने शिकायत में कहा कि पीडि़ता की कमर में इजेंक्शन के इंफेक्शन से एक बड़ा घाव हो गया है, महिला बैतूल उपचार कराने के लिए गई, जिसके उपचार का खर्च भी डॉक्टर द्वारा देेने की बात कही गई थी, लेकिन उक्त खर्च देने से भी डाक्टर अब मुकर गया है, जिससे परिजन और ज्यादा आक्रोशित हो गए हैं। नगर के पारेगांव रोड पर स्थित निजी अनमोल हॉस्पिटल के संचालक डाक्टर प्रवीण शुक्ला द्वारा ताप्ती वार्ड की महिला गायत्री उर्फ नान्हीं पति हरीसिंग पंवार ने गलत उपचार की शिकायत की है। महिला सहित परिजनों एवं अन्य लोगों ने एसडीओपी को बताया कि डॉ प्रवीण शुक्ला के हॉस्पिटल में महिला के गलत उपचार करने से उसकी कमर में इंफेक्शन से घाव बन गया जिसके बाद उसका बेतुल में ऑपरेशन हुआ। महिला ने बताया कि महिला को ऑपरेशन की राशि देने का कहने के बावजूद डॉ शुक्ला द्वारा राशि नहीं दी जा रही है, जबकि महिला के लगभग 50 हजार रुपये खर्च हो चुके हैं। अन्य शिकायतकर्ताओं ने बताया कि डॉ शुक्ला द्वारा जो मरीजों को दवाइयां लिखी जाती है वो सिर्फ उनके ही मेडिकल स्टोर्स पर मिलती है जिसके मनमाने दाम वसूले जाते हैं। पूर्व में भी डॉ शुक्ला के क्लिनिक में गलत उपचार के कारण हुई मरीजों की मौत होने के आरोप एवं विवाद हो चुके है। इसलिए क्लिनिक की जांच कर दोषियों पर कार्यवाही की जाए। पूरे मामले में एसडीओपी द्वारा उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है। प्राईवेट क्लीनिक के शौचालय में मिला था नवजात नगर के डाक्टर प्रवीण शुक्ला लगभग चार साल पहले नगर के सरकारी अस्पताल में संविदा डाक्टर के तौर पर कार्यरत थे। इस दौरान वह अस्पताल के समीप ही अपना प्राईवेट क्लीनिक भी चलाते थे। इसी दौरान इनके अस्पताल के शौचालय से एक नवजात मिला था, उक्त मामले ने भी बहुत तूल पकड़ा था, इस मामले में जांच भी हुई थी, लेकिन बाद में मामला पूरी तरह से दब गया था। इसके अलावा भी कई बार उन पर गलत उपचार के आरोप लग चुके हैं। प्राईवेट मेडिकल स्टोर से खुली लूट शिकायतकर्ताओं के अनुसार डाक्टर प्रवीण शुक्ला के अस्पताल के ठीक सामने एक मेडिकल स्टोर भी है, जो उनके किसी परिजन द्वारा चलाया जाता है, डाक्टर शुक्ला जो दवाईयां लिखते हैं, वह केवल इसी मेडिकल पर मिलती है, उक्त दवाईयां बाजार के दामों से ज्यादा दामों पर यहां बेची जाती हैे। यहां जैनरिक दवाईयां नहीं मिलती है और कंपनियों के नाम पर ज्यादा दामों पर दवाईयां बेचकर लोगों को खुला शोषण किया जा रहा है। उक्त मामले में भी कार्रवाई की मांग की गई है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now