BREAKING NEWS

तेंदुए की दस्तक से ग्रामीणों में दहशत

तेंदुए की दस्तक से ग्रामीणों में दहशत
मुलताई। ग्राम निंबोटी और घाटबिरोली में तेन्दुए ने दस्तक दी है जिससे दोनों गांव सहित आसपास के क्षेत्र में भय व्याप्त है। पांच छ: दिन पहले जहां एक बछिया का शिकार अज्ञात जानवर ने किया था। वहीं अब शनिवार पंजे के निशान मिलने से यह साफ हो गया कि शिकार तेन्दुए द्वारा ही किया गया था। पूरे मामले में पंजों के निशान की जांच करने के बाद वन विभाग ने भी तेन्दुए के पदचिन्ह होने की पुष्टी की है। खेत में मिले पंजे के निशान घाट बिरोली निवासी कृष्णा गायकवाड़ ने बताया कि उनका निंबोटी में खेत हैं जहां उक्त निशान मिले हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा घाट बिरोली में भी ग्रामीणों ने चुटकीदेव मंदिर के पास ऐसे ही पगमार्क देखे हैं जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि वर्तमान में भी तेन्दुआ इसी क्षेत्र में घूम रहा है। ऐसी स्थिति में ग्रामीणों में भय व्याप्त है वहीं लोगों को मवेशियों का शिकार होने का भी अंदेशा है। रेंजर ने की पुष्टि इस संबंध में वन विभाग के रेंजर अमित साहू ने बताया कि निशान तेन्दुए के होने की पुष्टी हो चुकी है जो छिन्दवाड़ा के वन क्षेत्र से आ सकता है। उन्होंने बताया कि तेन्दुआ एक जगह पर लगातार नहीं रहता तथा लगातार एक स्थान से दूसरे स्थान पर गमन करता है इसलिए यह आवश्यक नहीं कि फिलहाल इसी क्षेत्र में हो। सतर्कता की दृष्टि से वन विभाग की टीम पूरे क्षेत्र में सर्च कर रही है लेकिन फिलहाल टीम को तेन्दुआ नजर नहीं आया है। ग्रामीण अंचलों में किया अलर्ट वन विभाग के अमित साहू के अनुसार सतर्कता की दृष्टि से ग्रामीणों को तेन्दुए से सावधान रहने की समझाईश दी जा रही है। उन्होने बताया कि तेन्दुआ कुत्तों सहित छोटी बछिया, पाड़े का शिकार करता है इसलिए ग्रामीणों को सतर्क किया जा रहा है कि अपने मवेशी बाहर ना छोड़े साथ ही पालतू कुत्तों को घरों में ही रखें। इसके अलावा शाम होने के बाद घर से कम ही बाहर निकलें, अंधेरों में अधिक दूरी तक ना जाए यदि जाएं भी तो अकेले नही चार पांच लोग साथ में निकले। रेंजर साहू ने बताया कि किसानों को भी खेतों में जाने के लिए सतर्कता की आवश्यकता है क्योंकि तेन्दुआ छिप कर दबे पांव शिकार करता है। वर्तमान में यदि पांच दिनों पूर्व बछिया का शिकार उसी तेन्दुए ने किया है तो मवेशियों की सुरक्षा करना आवश्यक है। हालांकि तेन्दुआ लगातार प्रति घंटे 50 किलोमीटर की रफ्तार से आगे बढ़ता है फिर भी पगमार्क मिलने के कारण सतर्कता आवश्यक है। लगाए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे जहां तेन्दुए के पगमार्ग मिले हैं वहां आसपास सहित अन्य स्थानों पर वन विभाग द्वारा सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाएगें। रेंजर अमित साहू ने बताया कि रात्री में कैमरों के माध्यम से तेन्दुए की गतिविधियां पता चल सकती है। उन्होने बताया कि तेन्दुआ चालाक प्राणी होता है इसलिए आसानी से पकड़ में नही आता लेकिन इससे लोगों को सतर्क किया जा सकता है तथा सतर्कता बरतने से ही तेन्दुए के हमले से बचा जा सकता है। घाट बिरोली क्षेत्र के ग्रामीणों में भय व्याप्त तेन्दुए के ताजे पगमार्क मिलने से घाट बिरोली सहित आसपास के क्षेत्र के ग्रामीणों में भय व्याप्त है। ग्रामीण कृष्णा गायकवाड़ ने बताया कि किसानों को लगातार आवागमन करना पड़ता है लेकिन तेन्दुए के पगमार्ग मिलने से अब किसान खेतों में जाने से या अकेले आवागमन करने से हिचक रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि उनके मवेशियों पर भी खतरा बना हुआ है कि कहीं तेन्दुआ मवेशियों पर हमला ना कर दें। ग्रामीणों ने बताया कि शाम होते ही ग्रामीण घरों से कम निकल रहे हैं वहीं वन विभाग द्वारा दी गई चेतावनी एवं समझाईश का पालन कर रहे हैं।

Betul News Copyright © 2021. All Rights Reserved

Chat Now