BREAKING NEWS

दस दिनों में एक बार नल आने से दूर-दूर से ला रहे पानी

दस दिनों में एक बार नल आने से दूर-दूर से ला रहे पानी
खेड़ली बाजार। जिले के आमला विकास खंड की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत खेड़ली बाजार की सबसे बड़ी समस्या पीने का पानी की बनी हुई है। ग्राम के निवासियों को पीने के पानी के लिए काफी मशक्कत करना पड़ रहा है। इतनी भीषण गर्मी में दूर से पीने का पानी लाने के लिए बहुत सी मुसीबतों से दो- चार होना पड़ रहा है। लोग साईकिल पर या मोटरसाइकिल पर पानी की केन भरकर दूर- दूर से पीने का पानी लाने को मजबूर हो रहे हैं। टैंकर से खरीद रहे पानी कुछ लोग टैंकर से पानी खरीद कर अपना काम चला रहे हैं, किंतु टैंकर से पानी खरीद पाना हर किसी के लिए संभव नहीं। लगभग पांच हजार से अधिक की आबादी वाले इतने बड़े ग्राम में पेयजल आपूर्ति एकमात्र ट्यूबवेल के भरोसे चल रही है। पेयजल संकट इतना गहरा गया है कि दस से बारह दिनों में एक बार पीने के पानी के लिए मात्रआधा घंटा नल आता है।इस समस्या से ग्राम वासी काफी परेशान हैं जल्द ही इसका निराकरण चाहते हैं। बंद हो गया ट्यूवबेल ग्राम पंचायत सरपंच रानी योगेश रघुवंशी से जब इस संबंध में चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि ग्राम में मात्र दो ट्यूबेल संचालित थे जिनमें अब तक पानी आ रहा था उसमें से विगत सप्ताह एक ट्यूबवेल का जलस्तर काफी नीचे चला जाने से वह ट्यूबेल बंद हो चुका है। अब एकमात्र बोरदेही रोड स्थित ट्यूबवेल के भरोसे ही पेयजल आपूर्ति की जा रही है। ग्राम में पानी की समस्या विकराल रूप ले रही है। ग्राम के एकमात्र ट्यूबेल में पानी है जिससे पानी की टंकी मैं जितना पानी रहता है उस हिसाब से प्रत्येक वार्ड में पानी दिया जा रहा है ताकि पीने का पानी उपलब्ध हो सके, किंतु एक मात्र ट्यूबवेल से इतने बड़े ग्राम में पेयजल आपूर्ति समय पर करना मुश्किल हो रहा है। ट्यूवबेल किया खनन पर नहीं निकला पानी कल दिनांक 28 मई को विभागीय स्वीकृति के अनुसार सात सौ फीट गहराई का एक ट्यूबवेल खनन किया गया जिसमें पानी नहीं लगा। सरपंच ने आगे बताया कि जल्द ही आमला विधायक ,बैतूल सांसद तथा उच्च अधिकारियों से इस विषय में चर्चा की जाएगी तथा एक ट्यूबवेल खनन की स्वीकृति और करवाई जाएगी। चरमरा गई पेयजल व्यवस्था भाजपा ग्रामीण खेड़ली मोरखा मंडल के अध्यक्ष यदुराज सिंह रघुवंशी ने बताया कि ग्राम में पेयजल व्यवस्था चरमरा गई है और पीने के पानी के लिए आम जन को काफी संघर्ष करना पड़ रहा है, लगभग दस दिनों के अंतराल में नल आ रहा है जिससे लोगों के निस्तार हेतु भी पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। मैं इस संबंध में आमला विधायक से चर्चा कर जल्द ही समस्या को दूर करने का प्रयास करूंगा। किए जा रहे समस्या हल करने प्रयास जनपद पंचायत सदस्य सलीमा आनंद पंडोले ने बताया कि ग्राम में पेयजल आपूर्ति एकमात्र ट्यूबवेल से की जा रही है और काफी अंतराल बाद वार्डों में नल आ रहा है। पेयजल संकट लगातार गहराता जा रहा है, जिसके लिए मैंने उच्च अधिकारियों से चर्चा की है और समस्या को दूर करने हेतु प्रयास कर रही हूं। नल कनेक्शनों की बढ़ गई संख्या ग्राम के पूर्व उपसरपंच राजेंद्र बिहारिया ने बताया कि पहले नल कनेक्शन कम थे जिससे पेयजल आपूर्ति आसानी से हो जाती थी ,किंतु पिछले वर्षों में पूरे ग्राम में नल जल की पाइप लाइन का विस्तार भी किया गया है जिससे नल कनेक्शन काफी बढ़े हैं। दो ट्यूबवेल से पेयजल आपूर्ति की जा रही थी किंतु वर्तमान स्थिति में एक ट्यूबवेल का जलस्तर नीचे चला गया है वह ट्यूबेल अब बंद की स्थिति में है। बोरदेही रोड स्थित एकमात्र ट्यूबवेल से पेयजल आपूर्ति की जा रही है। ग्राम पंचायत सरपंच एवं उच्च अधिकारियों द्वारा जल्द ही समस्या का निराकरण किया जाना चाहिए। ग्राम की जनता पीने के पानी के लिए काफी परेशान हैं। 31 में से 19 हैण्डपंप है चालू हैंडपंप टेक्नीशियन कालिदास पहाड़े ने बताया कि ग्राम में कुल 31 हैंड पंप है, जिसमें से 19 हैंडपंप सक्रिय अवस्था में है एवं पांच हैंड पंप आंशिक रूप से चालू है जिनमें थोड़ी देर पानी भरने के बाद पानी आना बंद हो जाता है ,थोड़ी देर रुकने के बाद पुन: हैंड पंप चलाने पर पानी आना चालू हो जाता है। बाकी के सात हैंडपंप का जलस्तर काफी नीचे चले जाने के कारण उनमें पानी आना अब बंद हो गया है। 1 किमी. दूर से लाना पड़ रहा पानी बहरहाल ग्राम पंचायत स्तर पर, आमला विधायक ,बैतूल सांसद तथा उच्चाधिकारियों के स्तर पर जो भी प्रयास किए जाने हैं वे जल्द ही किए जाएं। पीने के पानी की जद्दोजहद के लिए ग्राम वासियों को लगभग एक किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। फिलहाल पेयजल व्यवस्था को लेकर पूरा गांव परेशान हैं। पीने का पानी भी समय पर नहीं मिल रहा है। पीने के पानी के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है। ग्रामीणों को पीने के पानी हेतु कुछ किसानों के नीजि ट्यूबवेल का सहारा लेना पड़ रहा है जिससे समय पर पानी उपलब्ध हो सके।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now