BREAKING NEWS

नदी में पानी नहीं छोड़ा जाता तो जिंदा होता है इंजीनियर

नदी में पानी नहीं छोड़ा जाता तो जिंदा होता है इंजीनियर
बैतूल। विगत दिनों मांडवी निवासी इंजीनियर शुभम नरवरे की मौत के मामले में परिजनों ने शनिवार को विधायक निलय डागा को ज्ञापन सौंपकर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है। मृतक के चाचा रमेश नरवरे व परिजनों ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि जल संसाधन विभाग के द्वारा बगैर मुनादी कराए व सूचना दिए बिना रातों-रात चंदोरा डेम के गेट खोले दिए जिससे ताप्ती नदी में बहाव तेज हो गया और इंजीनियर मौत के गाल में समा गया। परिजनों ने बताया कि जब डेम से पानी छोड़ा गया था तब ताप्ती नदी केकिनारे स्थित धाबला गांव पर विभाग के द्वारा ठेकेदार व इंजीनियर कार्य कर रहे थे। साथ ही दूसरे दिन दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन होने के कारण भी आस-पास के ग्रामीणों की भीड़ लगातार उमड़ते रही। श्री नरवरे ने कहा कि इन सब चीजों की अनदेखी कर जल संसाधन विभाग के चंदोरा डेम के अधिकारियों-कर्मचारियों के द्वारा बगैर सूचना के पानी छोडऩे के कारण दुखद घटना हुई है। किराड़ समाज ने गहरा दुख व्यक्त कर दोषी अधिकारी, कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग के साथ-साथ मृतक के परिजनों को उचित मुआवजा दिलाएं जाने की भी मांग की है। इस दौरान विधायक निलय डागा ने सभी को आश्वस्त किया कि दोषी अधिकारी कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now