BREAKING NEWS

नलों में आ रहा गंदा पानी- बोले एई ऐसा ही आएगा बारिश में पानी

नलों में आ रहा गंदा पानी- बोले एई ऐसा ही आएगा बारिश में पानी
बैतूल। नगर पालिका एक ऐसी काजल की कोठरी है कि यहां पर थ्यौरी पर कम और प्रेक्टिकल अधिक होकर चलना पड़ता है वरना पता ही नहीं चलता है कि आखिरकार कहां फेल हो गए थे? बाद में सिर्फ पछतावा ही हाथ लगता है। उम्र और तजुर्बे दोनों में कम सहायक यंत्री को अभी बैतूल की तासीर पता नहीं है इसलिए वह नलों में गंदा पानी आने की शिकायत करने वाले शहरवासियों को यह जवाब दे रहे हैं कि बारिश में ऐसा ही पानी आता है। जब नगर पालिका शहर में साफ और स्वच्छ पानी नहीं पिला सकती है तो फिर किस बात का जल कर वसूल करती है। यह नगर पालिका की जिम्मेदारी है कि वह शहरवासियों को साफ और स्वच्छ पानी बिना किसी टीका-टिप्पणी किए बांटे क्योंकि यह उसका काम है। यदि शहरवासी साफ पानी की मांग कर रहे हैं तो यह उनका हक कोई भीख नहीं मांग रहे हैं। बेहतर होगा कि नगर पालिका के सहायक यंत्री सहित अन्य अफसर अपनी कार्यप्रणाली को सुधारते हुए शहरवासियों को स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने में एनर्जी खर्च करें जिससे शहरवासी बीमार होने से बच सकें। नलों में आ रहा गंदा पानी विगत कई दिनों शहर के लगभग सभी वार्डों में नलों से गंदा पानीं आ रहा है। इस पानी को देखकर तनिक भी पीने की इच्छा नहीं होती है लेकिन दूसरा कोई स्त्रोत नहीं होने से लोग इसे पीने को जहां मजबूर हो रहे हैं वहीं आने वाले समय में लोग बीमार भी पड़ सकते हैं। जबकि नगर पालिका को पानी को फिल्टर करने के लिए उच्च तकनीक का उपयोग करना चाहिए ताकि पानी नलों से होते हुए लोगों के घर तक साफ व स्वच्छ पहुंच सकें लेकिन वर्तमान में जो पेयजल सप्लाई हो रही है उस पानी को देखकर पीने तो बिल्कुल भी इच्छा नहीं होती है। यह हाल शहर के लगभग सभी वार्डों के बने हुए हैं जिससे शहरवासी खासे परेशान हैं। बेतुके तर्कों से नहीं चलता काम नलों में लगातार गंदा पानी आने से परेशान शहरवासियों द्वारा नगर पालिका के सहायक यंत्री से शिकायत की गई तो उन्होंने बेतुका तर्क देते हुए दो टूक कह दिया कि वर्तमान में बारिश चल रही है इसलिए नदी में गंदा पानी है। यही वजह है कि घरों में सप्लाई होने वाला पानी भी थोड़ा गंदा आ रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि पानी को फिल्टर करने के लिए सभी प्रोसेस की जा रही है लेकिन बारिश में पानी अत्यधिक गंदा होता है इसलिए ऐसा ही पानी आएगा। बेहतर हो कि पानी को उबालकर शहरवासी उपयोग करें। यह तर्क देने से पहले एई यह भूल गए हैं कि इस तरह के तर्क नहीं चलते हैं क्योंकि नगर पालिका का काम ही साफ पानी पिलाना है इसलिए अपनी कार्यप्रणाली सुधारें ताकि लोगों को स्वच्छ और साफ पानी मिल सकें। नलों से निकल रही इल्ली जवाहर वार्ड में बुधवार को यह स्थिति देखने में आई है यहां पर लोगों के घरों में लगे नलों से पानी के साथ इल्लियाँ भी निकल रही थी। यह देखते ही जवाहर वार्ड के वार्डवासियों ने तत्काल नगर पालिका को इसकी सूचना दी। सूचना के बाद नगर पालिका के कर्मचारियों ने पानी का सेम्पल लिया है। इधर इस मामले में सहायक यंत्री नीरज धुर्वे ने बताया कि पानी का सेम्पल लेकर पीएचई भिजवा दिया गया है। यहां पर सवाल यह उठता है कि जब पानी में इल्लियाँ आ रही है तो पाइप लाइन चेक करों कि कहीं से लीकेज तो नहीं है। पीएचई क्या बताएगी कि इल्लियाँ कहां से और कैसे आ रही हैं? कुल मिलाकर ऐसा लगता है कि शहरवासियों को बिना जांचे और परखे पानी की सप्लाई की जा रही है जिसे देखकर ही पीने की इच्छा नहीं हो रही है। इनका कहना... जवाहर वार्ड में इल्ली निकलने की शिकायत प्राप्त हुई है। पानी के सेम्पल लेकर पीएचई भिजवा दिए गए हैं। अभी बारिश का सीजन चल रहा है इसलिए नदी में गंदा पानी होने से नलों में भी पानी थोड़ा गंदा आ रहा है। पानी पीने योग्य है और दिन में तीन मर्तबा पीएचई जांच के लिए सेम्पल भेजे जा रहे हैं। पूरी कैमिकल प्रोसेस करने के बाद ही वॉटर सप्लाई की जा रही है। नीरज धुर्वे सहायक यंत्री, नपा, बैतूल

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now