BREAKING NEWS

बैंड पार्टियों की हालत हुई खराब-पेट भरना भी मुश्किल

बैंड पार्टियों की हालत हुई खराब-पेट भरना भी मुश्किल
बैतूल। लॉकडाउन के चलते बैंड पार्टियों में काम करने वाले कलाकारों की हालत खराब हो गई है। इसी सीजन में होने वाली कमाई से उनके साल भर का इंतजाम होता है, लेकिन लॉकडाउन ने उनका पूरा सीजन खराब कर दिया है। इन कलाकारों की स्थिति यह हो गई है कि भविष्य की व्यवस्था तो दूर तुरंत में ही गुजर बसर नहीं हो पा रही है। उन्होंने शासन से मुसीबत के इस समय में सहायता दिए जाने की गुहार लगाई है। बैतूल शहर में छोटी-बड़ी कुल मिलाकर 20 बैंड पार्टियां हैं। प्रत्येक बैंड पार्टी में 7 से लेकर 20 तक कलाकार हैं। बैंड पार्टी से जड़े कसारे और राजा सनेसर बताते हैं कि हम कलाकारों का रोजी-रोटी का एकमात्र साधन केवल बैंड बजाना है। यह रोजगार भी शादियों के इस सीजन में ही मिल पाता है। शेष पूरे साल भर खाली ही बैठे रहना पड़ता है। इस सीजन से जो आमदनी होती है उससे ही वे और उनका परिवार साल भर जैसे-तैसे गुजर बसर करता है। कलाकार शिवजी सनेसर बताते हैं कि इस साल कोरोना के प्रकोप के चलते लागू किये गए लॉकडाउन के कारण सारी बुकिंग केंसिल हो चुकी हैं। इस वजह से बैंड मालिक भी खासे परेशान हैं। बैंड मालिकों के पास बुकिंग ही नहीं रहने से कलाकारों को भी बेरोजगार और खाली हाथ बैठे रहना पड़ रहा है। इनके पास कमाई का कोई भी दूसरा रास्ता नहीं रहा है। हालात देखकर ऐसी कोई संभावना भी नजर नहीं आ रही है कि शादियों के सीजन तक स्थिति में कोई सुधार आ सकेगा। बैतूल बैंड वेलफेयर सोसायटी के पूर्व जिलाध्यक्ष कृष्णा सोनारे ने बताया कि यह कलाकार इस सीजन का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे क्योंकि पिछले सीजन में जो आमदनी हुई थी वह भी खत्म हो चुकी है, लेकिन इन पर दोहरी आफत टूट पड़ी है। सीजन शुरू होते ही कोरोना के प्रकोप ने उन्हें हलकान कर दिया है। अब साल भर के लिए व्यवस्था होना तो दूर तत्काल ही खाने के लाले पड़ गए हैं। दूसरी ओर बैंड मालिकों के भी लगभग ऐसे ही हाल हैं। उन्होंने कर्ज लेकर सीजन की तैयारी की है और अब सीजन भी होने की उम्मीद नहीं है। सभी बैंड कलाकारों और मालिकों ने मांग की है कि शासन उनकी ओर भी थोड़ा ध्यान दे और उन्हें भी आर्थिक सहायता मुहैया कराएं क्योंकि बैंड कलाकार और मालिक भी गरीब तबके से ही हैं और लॉकडाउन ने उनकी भी हालत खराब कर दी है। श्री सोनारे का कहना है कि लॉकडाउन खत्म होने पर बाकी व्यवसायी तो अपने काम पर लौट आएंगे, लेकिन हमारा तो तब तक सीजन ही समाप्त हो जाएगा।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now