BREAKING NEWS

मां के बिना अधूरा है जीवन: पारख

मां के बिना अधूरा है जीवन: पारख
बैतूल। संसार में मनुष्य के जीवन में मां का विशेष दर्जा है। मां की कोख से ही भगवान राम, कृष्ण ने जन्म लिया। ईश्वर ने सुख दुख में साथ देने के लिए मां को बनाया। मां तमाम कष्ट सहकर बच्चे को जन्म देती है। संतान का भी फर्ज है कि मां का ख्याल रखे। यह बात समाजसेवी सतीश पारख ने रविवार विश्व मातृ दिवस के अवसर पर जिला अस्पताल में सेवा कार्य के दौरान कहीं। मातृत्व दिवस के अवसर पर श्री पारख ने जिला चिकित्सालय में भर्ती सभी माताओं को कोरोना महामारी से बचाव के उद्देश्य से मास्क का वितरण किया। इसके साथ ही उन्होंने इन माताओं को ब्रेड के पैकेट भी वितरित किए। वहीं मरीजों को कोरोना से बचाव के उपाय बताए और उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। श्री पारख ने कहा कि मां के बिना जीवन अधूरा है। मां को ममता का सागर कहा जाता है। कहा भी क्यों न जाए वह अपने बच्चों को सबसे अधिक प्यार करती है। शायद इसीलिए मां को समर्पित मातृत्व दिवस मनाया जाता है। राहगीरों को भी नि:शुल्क वितरित किए मास्क इसके अतिरिक्त श्री पारख ने जिन राहगीरों के पास मास्क नहीं थे उन्हें रोककर निशुल्क मास्क प्रदान किए। उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस से बचने के लिए इन दिनों समाजसेवी सतीश पारख सोशल हीरो साबित हो रहे है। कोरोना वायरस का बढ़ता खतरा और संक्रमण को रोकने के लिए उनके द्वारा लॉक डाउन लगने के बाद से ही नि:शुल्क मास्क एवं कोरोना कर्मवीरों को फल वितरण का कार्य किया जा रहा है। लगभग 50 दिनों से समाजसेवी पारख प्रतिदिन सेवा कार्य कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। देश के साथ-साथ संक्रमण का खतरा जिले पर भी बना हुआ है। सावधानी ही इसका बचाव है। ऐसे में लोगों को चेहरे पर मास्क लगाना, हाथों को धोना और भीड़भाड़ वाली जगह में जाने से बचना चाहिए। ग्रामीण क्षेत्र में लोगों में जागरूकता तो है, लेकिन वे मास्क नहीं पहनते हैं। जिले में लॉकडाउन घोषित होने के साथ ही श्री पारख जन सेवा में लगे है। लोगों को संक्रमण से बचाव व जागरूकता के लिए उन्होंने निशुल्क मास्क का वितरण किया है। इस दौरान सभी को समझाइश भी दी गई, कि अपने घरों से बाहर नहीं निकले।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now