BREAKING NEWS

मुलताई से बैतूल कलेक्ट्रेट पहुंचकर मांगें पूर्ण करने के लिए किया प्रदर्शन

मुलताई से बैतूल कलेक्ट्रेट पहुंचकर मांगें पूर्ण करने के लिए किया प्रदर्शन
बैतूल/मुलताई। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड-19 की वजह से हर आम और खास व्यक्ति बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। बड़े-बड़े उद्योगपतियों का जहां व्यापार प्रभावित हुआ है तो आम मजदूरी करने वाले इंसान की मजदूरी भी प्रभावित हुई है। विगत मार्च माह से यात्री बसें खड़ी हुई है। बावजूद इसके प्रदेश सरकार द्वारा यात्री बसों का ना तो टैक्स माफ किया जा रहा है और ना ही बीमा कवर आगे बढ़ाया जा रहा है जिससे बस आपरेटरों को खड़ी बसों का भी टैक्स जमा करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है वरना उनका परमिट निरस्त हो जाएगा। इस स्थिति में बस चालक, परिचालक सहित एजेंट और उनका परिवार बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। मंगलवार को बसों का टैक्स माफ किए जाने की मुख्य मांग को लेकर मुलताई से बस संचालकों ने बैतूल कलेक्ट्रेट तक 50 किलोमीटर का पैदल मार्च किया और कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर अर्धनग्र हालत में ज्ञापन सौंपकर उनकी मांगों पर गौर करने की गुहार लगाई। इस दौरान बस आपरेटर शमीम खान बेहोश भी हो गए थे जिन्हें अस्पताल ले जाया गया। पिछले चार महीने से यात्री बसों और टैक्सी का संचालन बन्द होने से अब बस और टैक्सी ऑपरेटर आंदोलित होने लगे हैं । इसी के तहत बैतूल में बस ऑपरेटरों ने अर्धनग्न होकर मुलताई से बैतूल तक 50 किलोमीटर का पैदल मार्च निकाला । सभी ऑपरेटर ,बस ड्राइवर,क्लीनर और बुकिंग एजेंट पैदल ही जिला मुख्यालय पँहुचे । इनकी प्रदेश सरकार से मांग है कि बसों का 6 महीने का टैक्स माफ किया जाए वहीं डीजल पर सरकार वैट कम कर जिससे बस टैक्सी संचालन की लागत में कमी आए। बसों का 6 माह का टेक्स माफ करने की मांग को लेकर करीब दो सौ लोग कलेक्ट्रेट पहुंचे और अपनी मांग प्रसासन के सामने रखी अपना ज्ञापन दिया। बस संचालकों के भीड़ कलेक्ट्रेट की ओर बढ़ते देख मौके पर मौजूद पुलिस ने कलेक्ट्रेट परिसर का गेट बंद कर दिया और भीड़ को गेट पर ही रोक दिया। बस संचालक कलेक्टर से मिलने की मांग करते रहे और सड़क पर ही बैठ गए। बस संचालक शमीम खान ने बताया कि 6 माह का टेक्स माफ करें शिवराज सरकार और हमारी बस सरकार अधिग्रहण कर ले हम किराए से दे देंगे सरकार बस चलाए बेहोश हो गए बस संचालक खान मुलताई में सोमवार सुबह बड़ी संख्या में बस व्यवसाय से जुड़े लोग अपनी मांगों को लेकर बैतूल की ओर पैदल ही रवाना हुए। ज्ञापन देने वालों में बस संचालक, चालक, कंडक्टर एवं क्लिनर सहित बस एजेन्ट भी शामिल थे। बताया जा रहा है कि ग्राम संसुद्रा एवं पंखा के बीच पैदल चल रहे बस संचालक हाजी शमीम खान अचानक ही बेहोश होकर गिर पड़े जिन्हे उनके साथ चल रहे लोगों में हड़कंप मच गया। आसपास के लोगों द्वारा उन्हे पानी पिलाकर होश में लाया गया जिसके बाद उन्हे एक वाहन से बैतूल भेजा गया। इधर अन्य बस संचालकों सहित बस व्यवसाय से जुड़े लोग पैदल मार्च करते हुए दोपहर में बैतूल पहुंचे जहां उनके द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंप गया। बस व्यवसाय से जुड़े लोगों द्वारा सरकार से टैक्स एवं किराए संबन्धित मांगों को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है तथा उनके द्वारा आरोप भी लगाया गया है कि प्रदेश सरकार उनकी मांगे नहीं पूरी कर रही है जिससे वे आर्थिक रूप से प्रभावित हो गए हैं। गौरतलब है कि बस संचालकों ने यह चेतावनी दी है कि यदि अब भी सरकार उनकी मांगें नही पूरी करती है तो वे अपनी बसों में आग लगा देगें। इधर मुलताई के बस मालिकों को रोजगार प्रदान करने के लिए बस स्टैंड व्यापारी संघ द्वारा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में मांग की है कि बसों के क्लीनर, कंडेक्टरों, एजेेंटों को मुफ्त में राशन प्रदान किया जाए। वहीं तीन माह का टैक्स माफ करने की मांग की है। बस स्टैंड व्यापारी संघ के अध्यक्ष अनिल सोनी, महेश पाठक सहित अन्य लोगों ने सौंपे ज्ञापन में बताया कि मुलताई बस आपरेटर एवं मालिक से जुड़े हुए क्लीनर, कंडेक्टर, एजेंट पूरी तरह से बेरोजगार हो गए है। पिछले तीन महीने से आर्थिक रूप से यह सभी कठिनाईयों से जूझ रहे हैं। सभी के सामने घर चलाना मुश्किल हो गया, कई लोगों की फांके की नौबत आ गई है। बस मालिका द्वारा लगातार तीन महीने का टैक्स माफ करने की मांग की जा रही है, संघ इसका समर्थन करता है। यदि तीन महीने का टैक्स माफ होता है तो इसके बाद बस मालिक अपनी बसे शुरू करने को भी तैयार है। व्यापारी संघ द्वारा बस से जुडे तमाम लोगों के लिए रोजगार की मांग की है। इनका कहना... बस संचालक अपनी मांग लेकर कलेक्ट्रेट आये थे उनकी मांगे सुनी गई है। उनकी मांगों को शासन तक पहुंचा दिया जाएगा जो आदेश होंगे वह भी बता दिए जाएंगे। अनिल सोनी, डिप्टी कलेक्टर, बैतूल

Betul News Copyright © 2021. All Rights Reserved

Chat Now