BREAKING NEWS

मृत्युभोज ना देकर शिक्षा के लिए दान की 51 हजार की राशि

मृत्युभोज ना देकर शिक्षा के लिए दान की 51 हजार की राशि
बैतूल। गाड़ाघाट निवासी महाजन परिवार ने बुधवार पिता की श्रद्धांजलि कार्यक्रम में मृत्युभोज के नाम पर खर्च होने वाली राशि को समाज के गरीब तबके के विद्यार्थियों की शिक्षा के लिए दान कर समाज को सामाजिकता संदेश दिया है। महाजन परिवार ने वर्षों से समाज में फैली कुरीति को भी समाप्त करने की पहल शुरू की है। जानकारी के अनुसार गाड़ाघाट निवासी मानिकराव महाजन, देवीदास महाजन, गणेश महाजन, एवं एकनाथ महाजन के पिता शंकरराव महाजन का 29 फरवरी को निधन हो गया था। निधन के बाद स्व.शंकरराव के पुत्रों ने समाज में जागरूकता लाने के उद्देश्य से मृत्यु भोज ना देते हुए श्रद्धांजलि कार्यक्रम करने का निर्णय लिया। बुधवार श्रद्धांजलि कार्यक्रम के दौरान एक अनूठी पहल करते हुए स्व.महाजन के पुत्रों ने 51 हजार की राशि का चेक समाज की रविदास कल्याण एवं विकास संस्था समिति को विद्यार्थियों की शिक्षा के लिए दान स्वरूप प्रदान किया। संस्था के प्रदेश अध्यक्ष भूरा गायकवाड़ ने बताया कि महाजन परिवार ने साहसिक कदम उठाकर समाज में प्रेरणा स्रोत के रूप में कार्य किया है। मृत्यु भोज सामाजिक बुराई है। महाजन परिवार ने अपने ही घर से मृत्युभोज जैसी कुप्रथा बंद कर समाज के लोगों को भी इस तरह के आयोजन बंद करने का संदेश दिया। कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष भूरा गायकवाड़, कोषाध्यक्ष गणेश पद्माकर, जिला अध्यक्ष सुरेश गायकवाड़ ने सामाजिक लोगों से मृत्यु भोज बंद करने की अपील की। इस दौरान जिला उपाध्यक्ष राजेश महाजन, प्रदेश व्यवस्था मंत्री भोजराज पद्माकर, जिला सदस्य राजू गायकवाड़, सारणी अध्यक्ष नत्थू इंगले, गोविंदराव महाजन, बलदेव सेरेकर, विकास महाजन, शेषराव इंगले, श्रीराम सेरेकर, नामदेव महाजन सहित सामाजिक बंधु उपस्थित थे।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now