BREAKING NEWS

मृत शिक्षकों के परिवारजनों को अनुकंपा नियुक्ति देने की मांग

मृत शिक्षकों के परिवारजनों को अनुकंपा नियुक्ति देने की मांग
बैतूल। माध्यमिक शिक्षा मण्डल परीक्षाओं में रेण्डमाइजेशन पद्धति से केन्द्राध्यक्ष एवं सहायक केन्द्राध्यक्ष की नियुक्ति बंद करने एवं परीक्षा के दौरान मृत शिक्षकों को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान करने की मांग को लेकर बुधवार को आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा है। संघ के जिलाध्यक्ष विनय सिंह राठौड़ ने बताया कि विगत कुछ वर्षों से मण्डल द्वारा आयोजित परीक्षाओं में केन्द्राध्यक्ष एवं सहायक केन्द्राध्यक्ष की नियुक्तियां रेण्डमाइजेशन पद्धति द्वारा की जा रही है। जिसके कारण व्यक्ति को अपने मूल संस्था से 100 से 150 कि.मी. दूर केन्द्राध्यक्ष/सहायक केन्द्राध्यक्ष नियुक्त किया जाता है। जहां पर न तो रुकने की व्यवस्था होती है और न ही परीक्षा समय पर आने-जाने के लिए कोई साधन उपलब्ध होते है। साथ ही वह केन्द्राध्यक्ष उस क्षेत्र की भौगोलिक परिस्थितियों से पूर्णत: अनभिज्ञ होता है। इस पद्धति में केन्द्राध्यक्ष की व्यक्तिगत समस्याओं एवं क्षमताओं का आकलन किये बगैर ही भेजा जाता है। जिससे वह मानसिक रूप से परेशान रहते हुए प्रतिदिन सुबह-सुबह परीक्षा कराने जल्दबाजी में घर से निकलता है। वह अपने जीवन को दाव पर लगाकर दुर्घटना का शिकार होता रहा है। जिससे उसका पूरा परिवार प्रभावित होता है। वर्तमान में कोविड -19 के कारण बसों का संचालन पूर्णत: बंद होने से शिक्षकों को परीक्षाओं में अपने व्यक्तिगत साधनों से ही आना-जाना पड़ रहा है। जिससे दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। हाल ही बैतूल जिले में 16 जून 2020 को घटित घटना एक ताजा उदाहरण है। जिसमें दो शिक्षकों को अपनी जान गवानी पड़ी एवं दो शिक्षक गंभीर रूप से घायल है। इसके पूर्व भी बैतूल जिले सहित प्रदेश के अन्य जिलों में भी ऐसी घटना घटित हो चुकी है। उक्त घटनाओं के आधार पर आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने मांग करते हुए कहा कि रेण्डमाइजेशन पद्धति को पूर्णत: बन्द कर जिला स्तर पर ही स्थानीय केन्द्राध्यदों की नियुक्तियां कलेक्टर महोदय की अध्यक्षता में की जाए। चूंकि छात्रों को मण्डल द्वारा अन्य केन्द्रों पर परीक्षा केन्द्र बनाकर भेजा जाता है। बैतूल जिले में परीक्षा के दौरान मृत शिक्षकों के परिजन को अनुकम्पा नियुक्ति तत्काल प्रदान की जाए। माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा बीमा की राशि का भुगतान तत्काल किया जाए। संघ ने उपरोक्त तथ्यों और बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए मध्यप्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए कहा कि बोर्ड परीक्षाओं में रेण्डमाइजेशन पद्धति बंद कर मृत शिक्षक के परिवारजनों को अनुकम्पा नियुक्ति एवं बीमा की राशि प्रदान करने का कष्ट करें। ज्ञापन देने वाले शिक्षकों में जिला अध्यक्ष विनयसिंह राठौड़, प्रान्तीय सचिव लक्ष्मी चंद लिल्होरे, संभागीय उपाध्यक्ष कैलाश राठौर, विजय पवार उपाध्यक्ष, महेंद्र भारती कोषाध्यक्ष, मुकेश उपराले, अनंत कुमरे, संजय लाहरपुरे, राजकुमार कनाठे आदि शामिल है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now