BREAKING NEWS

रातों-रात टेंट-तम्बू लेकर गायब हो गए 800 मजदूर

रातों-रात टेंट-तम्बू लेकर गायब हो गए 800 मजदूर
आमला। गन्ना मिलों के लिए कटाई करने महाराष्ट्र से आये मजदूर आमला में पिछले दो-तीन माह से टेंट, तम्बू तानकर रह रहे थे। आमला ब्लाक के एक दर्जन से अधिक गांवों के पास इन मजदूरो ने डेरा डाला हुआ था। लाक-डाउन के बाद मजदूरो की मुसीबत बढ़ गई थी, भोजन और अन्य जरूरतों के सामान के लिए उन्हे परेशानियां झेलना पड़ रहा था। हालांकि प्रशासन ग्राम पंचायतो के माध्यम से सामाजिक संगठनों की सहायता से उनके लिए व्यवस्था बना रहा था। आज बुधवार सुबह लोगो ने देखा कि गांव के पास के टेंट तम्बू नहीं है और न ही मजदूर है। रातों रात हो गए गायब ग्राम पंचायत के सचिवो को भी जानकारी नहीं है। सुबह लगभग 8-9 बजे तक प्रशासनिक अमले को इसकी जानकारी नहीं थी। 800 से अधिक मजदूर आमला से रातोरात चले जाते है और प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं लगती है याने कि प्रशासन गहरी नींद में सोया था। प्रशासनिक अमले को जानकारी लगते ही हड़कम्प मच गया, कोई भी अधिकारी कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं था। प्रशासनिक व्यवस्था की खुली पोल लॉकडाउन की स्थिति में जहां एक व्यक्ति भी बिना अनुमति आमला से बाहर नहीं जा सकता ऐसे में इतनी बड़ी संख्या में लोग अपने वाहनो से सामान सहित बाहर चले गये यह आश्चर्यजनक है। इसने प्रशासनिक व्यवस्था की पोल खोल दी है। सवाल इस बात का भी है कि जब बिना अनुमति इतने लोग आमला से बाहर चले जाते है तो प्रशासन की आंखो में धूल झोंककर लोग आमला आ भी जाते होंगे। संबंधित ग्राम पंचायतो के सचिव से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हम उनके लिए भोजन आदि की व्यवस्था कर रहे थे आज सुबह हमने देखा कि मजदूर उनके सामान सहित चले गये। जब तक प्रशासन सक्रिय होता तब तक वे जिले की बॉर्डर पार कर महाराष्ट्र पहुंच चुके थे। एक दर्जन गांवो में था डेरा मजदूर जो कि महाराष्ट्र के चालीसगांव, जलगांव और नासिक के थे वे आमला ब्लाक के ग्राम बोरगांव, माहोली, छावल, ढुटमुर, खापाखतेड़ा, तोरनवाड़ा के पास लालावाड़ी, रतेड़ाकलां, देवगांव, बोरीखुर्द, तिरमहूं और डेहरी के पास टेन्ट तम्बू तानकर रह रहे थे। इनका कहना... इस विषय में पता किया जा रहा है, हमने कोई अनुमति नहीं दी थी। नीरज कालमेघ, तहसीलदार आमला। हमे जानकारी नहीं है सुनील लाटा, नगर निरीक्षक आमला। सुबह सचिवों के माध्यम से जानकारी मिली है कि मजदूर आमला से चले गये है, एसडीएम को हमने अवगत करा दिया है। संस्कार बावरिया, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आमला। सभी मजदूर स्वस्थ थे, कोई चिंता की बात नहीं है, हमारे इधर के सड़क मार्ग से कोई भी मजदूर बाहर नहीं गये है। अनिल पुरोहित, थाना प्रभारी, बोरदेही

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now