BREAKING NEWS

रिश्तेदार नहीं पहुंचे तो हिंदू-मुस्लिमों ने किया अंतिम संस्कार

रिश्तेदार नहीं पहुंचे तो हिंदू-मुस्लिमों ने किया अंतिम संस्कार
मुलताई। मुलताई में मंगलवार को जब एक व्यक्ति की मौत हो गई और उनकी अर्थी उठाने के लिए उनके रिश्तेदार मौजूद नहीं थे तो मुलताई के मुस्लिम एवं हिंदु समाजसेवियों ने उनकी अर्थी उठाकर उनका अंतिम संस्कार भी कर दिया। लाक डाउन के कारण उनके रिश्तेदार मुलताई नहीं पहुंच पाए थे। कोरोना वायसरस के चलते देशभर में लॉकडाउन के दौरान नगर में हिन्दू-मुस्लिम एकता की अनोखी मिसाल देखने को मिली है। यहां मुस्लिमों ने ऐसी मिसाल पेश की है जिसकी चर्चा पूरे क्षेेत्र में हो रही है। दरअसल यहां एक हिन्दू परिवार में घर के मुखिया का निधन हो गया। लॉकडाउन के चलते अर्थी को कंधा देने के लिए उनके परिवार का कोई नहीं था। जैसे ही यह बात आसपास क मुस्लिमों को पता चली वे पहुंच गए। समाजसेवी चिंटू खन्ना ने बताया कि मुलताई के पारेगांव रोड निवासी रमन शर्मा का लंबी बीमारी के चलते मंगलवार को निधन हो गया। मृतक के परिजनों ने रिश्तेदारों को सूचना दी, ताकि सभी लोग आ सके और मृतक का अंतिम संस्कार किया जा सके। लॉकडाउन के चलते कोई भी आने में समर्थ नहीं हो सका। जब इसकी जानकारी आसपास रहने वाले मुस्लिम समाज के लोगों को मिली तो वह एकत्र हो गए। मुस्लिम समाज के पाशा खान, अल्ताफ अहमद, अतीक चौहान, अब्दुल कादर, अफसर भाई, साबिर भाई और हिंदू समाज से चिंटू खन्ना, संदीप कॉमडी, रजनीश गिरे, अजय यादव, छोटू अग्रवाल एवं कुलदीप पहाड़ आदि लोगों ने शव को मोक्ष धाम ले जाकर उसका अंतिम संस्कार भी कराया।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now