BREAKING NEWS

लेंडी नदी में बहा बालक-घरों में पानी घुसा-ताप्ती बैराज के विंग वॉल की मिट्टी बही

लेंडी नदी में बहा बालक-घरों में पानी घुसा-ताप्ती बैराज के विंग वॉल की मिट्टी बही
बैतूल । 48 घंटों के दौरान बैतूल जिले में हुई औसत बारिश ने तबाही मचाना शुरू कर दिया है। लगातार हो रही बारिश से नदी-नालों में आयी बाढ़ से जहां निचले इलाको की बस्तियों में पानी भर गया वहीं माचना, सूखी, धार नदी में आयी बाढ़ से लगभग 20 घंटे तक नागपुर-भोपाल के बीच आवागमन ठप्प हो गया। इधर सांईखेड़ा थानांतर्गत बानूर ग्राम के समीप लेडी नदी के पुल को पार करते शनिवार सुबह रोहित पिता कृष्णा देशमुख (12) वर्ष बाढ़ में बह गया। जिसकी तलाश के लिए सांईखेड़ा थाना पुलिस द्वारा ग्रामीणों एवं गोताखोरों के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। ताप्ती नदी पर स्थित पारसडोह एवं चंदोरा जलाशयों से लगातार पानी छोड़े जाने के चलते ताप्ती नदी में आयी बाढ़ से ताप्ती बैराज के विंग वॉल की मिट्टी बह गई। हालांकि बैराज सुरक्षित बताया जा रहा है। लगातार हो रही बारिश के चलते जिला मुख्यालय के खंडारा ग्राम की गलियो सहित घरों में पानी भर गया। बैतूल के विनोबा नगर में शिव मंदिर के समीप गोविंद साहू का मकान क्षतिग्रस्त हो गया। बीते 24 घंटे के दौरान बैतूल जिले में औसत 5.69 इंच बारिश रिकार्ड की गई है। लगातार हो रही बारिश ने जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है। मौसम विभाग द्वारा आगामी 24 घंटों में जिले में भारी बारिश की चेतावनी देते हुए आरेंज अलर्ट जारी किया है। चिचोली- मुलताई में सामान्य से अधिक बारिश मौसम विभाग द्वारा जारी अत्यधिक बारिश के रेड अलर्ट के मुताबिक बीते चौबीस घंटों में जिले भर में मूसलाधार बारिश हुई। 28 अगस्त सुबह 8 से 29 अगस्त को सुबह 8 बजे तक जिले में औसत 5.69 इंच बारिश रिकार्ड की गई है। लगातार हो रही बारिश से घोड़ाडोंगरी एवं मुलताई से सामान्य से अधिक बारिश हो चुकी है। 29 अगस्त को सुबह 8 बजे तक चिचोली में 46.93 इंच एवं मुलताई में 45.28 इंच बारिश हो चुकी है। घोड़ाडोंगरी-भैंसदेही एवं भीमपुर में बारिश का आंकड़ा वर्षाकाल में होने वाली सामान्य औसत बारिश के करीब पहुंच गया है। जिले में अभी तक औसत 36.87 इंच बारिश हो चुकी है। जिससे अब जिले में बारिश का कोटा पूरा होने में सिर्फ 6.48 इंच वर्षा की जरूरत है। मौसम के पूर्वानुमानों से उम्मीद जताई जा रही है कि भादो माह में बैतूल जिले में बारिश का कोटा पूरा हो सकता है। जिले में सर्वाधिक 46.93 इंच बारिश मुलताई में एवं सबसे कम 21.51 इंच बारिश प्रभातपट्टन में रिकार्ड की गई। नदी-नालों मेें आयी बाढ़ से आवागमन ठप्प बीते 48 घंटों से जिले में लगातार हो रही बारिश से नदी नाले उफान पर आ गये है। लगातार बारिश और जलाशयों से पानी छोड़े जाने से जिले की प्रमुख नदियों ताप्ती, माचना, सापना, सूकी, धार में आयी बाढ़ से आवागमन ठप्प हो गया है। शाहपुर, भौंरा के समीप सापना, सूकी, धार नदी में आयी बाढ़ से शुक्रवार रात्रि साढ़े दस बजे से शनिवार सायं 6 बजे तक नागपुर- भोपाल के बीच आवागमन ठप्प रहा। जिससे दोनों ओर कई किलोमीटर तक वाहनों की कतारे लगी रही। इधर जिला मुख्यालय बैतूल के करबला माचना में आई बाढ़ से शुक्रवार रात से शनिवार दोपहर तक बैतूल से परतवाड़ा, चिचोली, इंदौर, खंडवा के बीच आवागमन बंद रहा। जिले के ग्रामीण इलाकों में नदी-नालों के उफनने से अनेक गांव टापू बन गये। जलाशयों के गेट खुले रहे लगातार बारिश से नदी-नालों में आयी बाढ़ से जलाशयों के जलस्तर में तेजी से इजाफा हो रहा है। जलस्तर को मेंटेन करने के लिए जलाशयों के गेट खोलकर जलप्रवाहित किया जा रहा है। शुक्रवार की भांति शनिवार को भी सारणी स्थित सतपुड़ा जलाशय के 12, पारसडोह के पांच एवं चंदोरा के चार गेट खोलकर जलप्रवाहित किया जा रहा है। जलाशयों में तेजी से जलस्तर में हो रहे इजाफा के चलते एहतियात के तौर पर जलसंसाधन विभाग के अधिकारी रतजगा कर जलाशयों की निगरानी कर रहे है। बीते तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश से जिले के सभी छोटे-बड़े जलाशय छलकने लगे है। मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट मौसम केन्द्र भोपाल 29 अगस्त को जारी मौसम बुलेटिन में बैतूल सहित 17 जिलों में अतिभारी बारिश की संभावना जताकर ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। मौसम बुलेटिन के मुताबिक अगामी 24 घंटों में होशंगाबाद संभाग के जिलों सहित अन्य जिलों मेें कहीं-कहीं अतिभारी वर्षा तथा गरज चमक के साथ बिजली चमकने, बिजली गिरने की संभावना जताई है। हालांकि 31 अगस्त एवं 1 सितंबर को वर्षा की गतिविधियों में कमी होने का अनुमान मौसम विभाग द्वारा लगाया जा रहा है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now