BREAKING NEWS

लोकतंत्र को बचाने वाले मीसाबंदियों का सम्मान करना गौरव की बात: सांसद

लोकतंत्र को बचाने वाले मीसाबंदियों का सम्मान करना गौरव की बात: सांसद
बैतूल। आज से 45 साल पहले राजसत्ता के लिए देश की जनता पर आपातकाल लागू कर कांग्रेस और इंदिरा गांधी ने लोकतंत्र की हत्या कर दी। तब देश में संघ, जनसंघ सहित विपक्षी दलों के नेताओ को जेलो में ठूंस दिया गया। ऐसे समय जिन लोगो ने लोकतंत्र को बचाने में अग्रणी भूमिका निभाते हुए अपना सर्वस्व अर्पण कर दिया उनका सम्मान करना गौरव की बात है। उक्त उदगार क्षेत्रीय सांसद दुर्गादास उइके ने जिला कार्यालय विजय भवन में भाजपा द्वारा लोकतंत्र सैनानी (मीसाबंदी) के सम्मान समारोह में व्यक्त किए। समारोह में मीसाबंदी रहे रामचरित्र मिश्रा, सुभाष आहूजा, महेन्द्रनाथ भार्गव, मोतीलाल कुशवाह, सुधाकर आंबेकर का प्रदेश कोषाध्यक्ष हेमंत खंडेलवाल, सांसद दुर्गादास उइके, विधायक डॉ.योगेश पंडाग्रे ने शाल श्रीफल एवं सम्मान पत्र भेंटकर सम्मान किया। पूर्व में जिले के सभी मंडल अध्यक्षो ने मीसाबंदियो का फूलमालाओं से स्वागत किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हेमंत खंडेलवाल ने कहा कि मीसाबंदियों का संघर्ष ही था जिसके कारण देश में लोकतंत्र की रक्षा हो सकी। श्री खंडेलवाल ने युवा पीढ़ी से आपातकाल के दौर का इतिहास पढऩे की सलाह भी दी। विधायक डॉ.योगेश पंडाग्रे ने कहा कि आपातकाल के दौरान निरंकुश शासन के खिलाफ, सरकार के दमन के विरोध में इन सेनानियों ने आवाज उठाई थी। इसके परिणाम स्वरूप उन्हें जेलों में बंद कर दिया गया था। डॉ.पंडाग्रे ने कहा कि भाजपा इन सैनानियों का सम्मान करती है। इसीलिए शिवराज सरकार ने पेंशन शुरू कर दी थी लेकिन कांग्रेस सरकार ने पेंशन बंद कर लोकतंत्र की रक्षा करने वालों को अपमानित करने का काम किया था। समारोह में मीसाबंदी रहे पूर्व सांसद सुभाष आहूजा ने अपने संस्मरण सुनाते हुए कहा कि जितने लोग जेलो में बंद थे उससे कही ज्यादा लोग बाहर रहकर इस काले कानून का विरोध करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जेलो में बंद मीसाबंदियों के साथ ही उनके परिवारों ने भी इस काले कानून के परिणामों को भुगता था। मीसाबंदी वरिष्ठ भाजपा नेता रामचरित्र मिश्रा ने 25 जून की रात लागू आपातकाल के बारे में पूरी जानकारी देते हुए बताया कि इंदिरा गांधी ने किस तरह पूरे देश को कारागार में बदल दिया था। मोती लाल कुशवाह ने भी अपने संस्मरण बताए। कार्यक्रम का सफल संचालन जिलाध्यक्ष आदित्य बबला शुक्ला ने एवं आभार नागरिक बैंक अध्यक्ष अतीत पंवार ने व्यक्त किया। कार्यक्रम में सोशल डिस्टैसिंग का पूरा पालन किया गया। कार्यक्रम में ये रहे उपस्थित आपातकाल की 45 वीं बरसी पर आयोजित मीसाबंदियो के सम्मान समारोह में जिले भर के प्रमुख कार्यकर्ता उपस्थित रहे। जिसमें वरिष्ठ नेता रामजीलाल उइके, राजा ठाकुर, जितेन्द्र वर्मा, रमेश मिश्रा, अनिल सिंह कुशवाह, संतकुमार आर्य, गंगा उइके, प्रेमशंकर मालवीय, राजकुमार वर्मा, दीनाजी यादव, पीजे शर्मा, भगवानसिंह भारद्वाज, मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा, विक्रम वैघ, उमाशंकर नीतू पटेल, नीतिन बारस्कर, सुनील पंवार, गोवर्धन राने, रामकिशोर देशमुख, यशवंत यादव, यदूराज रघुवंशी, सुधा चंद्रा, मोहन मोरे, शोभित हनी भार्गव, राजेश हिंगवे, राजेश सोनारे, विजय घोड़की, परसराम खाकरे, मनीष सोलंकी, दिनेश वागद्रे , अनिल उइके, कृष्णा यादव, भूरा यादव, सुनील टेकपुरे, राजेश मेहतो, विजय पाल, राजेश परते, मनीष कुमरे, दुर्गासिंह नायक, मुकेश मालवीय, राजेन्द्र यादव इत्यादि सहित जिले से आए कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now