BREAKING NEWS

विदेश से बैतूल आए 84 में से 32 के पास नहीं पहुंचा महकमा

विदेश से बैतूल आए 84 में से 32 के पास नहीं पहुंचा महकमा
बैतूल। 'रोम जल रहा था और नीरो बांसुरी बजा रहा थाÓ की तर्ज पर चल रहे स्वास्थ्य महकमे के अफसर लगता है कि बैतूल को भी कोरोना प्रभावित करने के बाद ही कुंभकर्णी नींद से उठेंगे। यहां पर ऐसा इसलिए लिखना पड़ रहा है क्योंकि बात ही कुछ ऐसी है। विभिन्न एयरपोर्ट से बैतूल जिले के स्वास्थ्य महकमे को नाम जद यात्रियों की सूची देकर सूचित किया जा चुका है कि आपके जिले में विदेश से इतने यात्री पहुंच रहे हैं। इनकी स्क्रीनिंग, सेम्पलिंग करने की कार्यवाही की जाए। लेकिन ताज्जुब की बात है कि 84 यात्री विदेश यात्रा कर बैतूल पहुंच चुके हैं लेकिन अभी तक स्वास्थ्य विभाग को सिर्फ 52 यात्री ही मिल पाए हैं जबकि 32 यात्री कहां है? वह किस हालत में है? कहीं वह कोरोना प्रभावित तो नहीं है? वह होम आईसोलेटेड हुए है या नहीं? कहीं उनसे दूसरो को तो कोरोना नहीं फैल रहा है? इन तमाम प्रश्रों की जानकारी तो दूर स्वास्थ्य महकमा नाम, पता होने के बावजूद भी उनके पास तक नहीं पहुंच पाया है। जिला जनसंपर्क कार्यालय द्वारा जारी प्रेस नोट में सीएमएचओ ने बताया कि बैतूल जिले में विदेश से आए कुल यात्रियों की संख्या 84 है। अब तक स्वास्थ्य परीक्षण किये गए यात्रियों की संख्या 52 एवं अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावना होने पर एक मरीज का सेम्पल भेजा गया है। इसी तरह 52 को होम आइसोलेट करने के निर्देश दिए हैं। जबकि 32 विदेश से आए यात्रियों के नाम, पता और मोबाइल नंबर होने के बावजूद भी स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों-कर्मचारियों का उनके पास तक नहीं पहुंचना निश्चित रूप से गंभीर उदासीनता और लापरवाही को प्रदर्शित करता है। सीएमएचओ के हवाले से जारी प्रेस नोट में 84 में से सिर्फ 52 लोगों की स्थिति स्पष्ट की गई है। बाकि बचे 32 लोगो के बारे में कुछ भी नहीं लिखा गया है। जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने टालू लहजे में जवाब दिया कि स्वास्थ महकमा अभी बाकि बचे 32 लोगो का पहुंच नहीं पाया है। कोरोना संक्रमण को लेकर स्वास्थ महकमा जिस तरह लापरवाही बरत रहा है और जिम्मेदार नागरिकों द्वारा दी गई सूचनाओं पर ध्यान नहीं दे रहा है। उससे आने वाले समय में स्थिति बिगडऩे की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now