BREAKING NEWS

वैगन पलटने से प्लांट को कोल सप्लाई बाधित

वैगन पलटने से प्लांट को कोल सप्लाई बाधित
सारनी। सतपुड़ा पावर प्लांट के कोल हैंडलिंग प्लांट में गुरुवार को अल सुबह वैगन टिप्लर के पास ट्रैक पर एक वैगन पलटने के कारण बड़ा हादसा हो गया। हालांकि इसमें कोई घायल नहीं हुआ, लेकिन सतपुड़ा प्लांट को कोयले के आपूर्ति लगभग ठप हो गई। घटना वैगन को टिप्लर पर ले जाने के समय शटिंग के दौरान हुई। रेलवे की टीम यहां पहुंच गई थी। सतपुड़ा थर्मल पावर प्लांट में रेलवे के जरिए भी कोयले की आपूर्ति होती है। गुरुवार को अल सुबह यहां पहुंची एक रैक से वैगनों को शटिंग किया जा रहा था। इसी दौरान14 नंबर वैगन टिप्लर के ट्रैक पर एक वैगन पलट गई। इससे ट्रैक क्षतिग्रस्त हो गया। गनीमत थी इसके साथ जुड़ा इंजन पलटा नहीं। यदि ऐसा होता तो बड़ा हादसा हो सकता था। घटना की जानकारी लगते ही पावर प्लांट के चीफ इंजीनियर हेमंत संकुले, एडीशनल चीफ इंजीनियर राजीव श्रीवास्तव समेत अन्य टीम यहां पहुंची। सीई ने तत्काल इसकी सूचना रेलवे को दी। दोपहर में टीम कोयला आपूर्ति बहाल करने में जुटी रही, लेकिन अतिरिक्त वैगन टिप्लर खराब होने के कारण यह संभव नहीं हो पाया। इकाइयां कम लोड पर होने के कारण ज्यादा दिक्कतें नहीं आईं। दोपहर में रेलवे की एआरडी (एक्सीडेंटल रिलीफ डिपार्टमेंट) टीम यहां पहुंची। तीन स्थानीय क्रेनों की मदद से रेस्क्यू का काम शुरू हुआ। देर शाम तक ट्रैक से वैगन हटा दिया गया। डिमांड कम होने से दो ही इकाइयों से उत्पादन, वो भी बेकिंग डाउन पर कोल हैंडलिंग प्लांट में हादसे के दौरान प्रदेश में बिजली की डिमांड भी कम रही। इस कारण इकाइयां बंद करने की नौबत नहीं आई। प्लांट की चार इकाइयां पहले ही नो डिमांड के कारण बंद है। इस बीच गुरुवार शाम को 6.30 बजे प्रदेश की डिमांड 5888 मेगावाट रही। कम डिमांड के कारण प्लाट की 10 और 11 नंबर इकाइयों को क्रमश: 157-157 मेगावाट के लोड पर चलाया जा रहा था। प्लांट से मात्र 314 मेगावाट उत्पादन हुआ।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now