BREAKING NEWS

संकेतक नहीं होने से फोरलेन बायपास पर घट रही दुर्घटनाएं

संकेतक नहीं होने से फोरलेन बायपास पर घट रही दुर्घटनाएं
मुलताई। फोरलेन बायपास मार्ग पर संकेतक सहित विभिन्न लापरवाहियों के चलते लगातार दुर्घटनाएं हो रही है लेकिन इसके बावजूद संबंधित विभाग उदासीन बना हुआ है जिसे लेकर नागरिकों में रोष व्याप्त है। बायपास मार्ग पर बिरूल बाजार एवं सोनोली चौराहे पर किसी भी प्रकार का संकेतक नही लगा होने के कारण आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है। सोनोली रोड सहित बिरूल बाजार मार्ग पर भी कोई संकेतक नही होने से आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है वहीं कई मौतें होने से यह स्थल डेंजर जोन बन चुका है। सोनोली मार्ग पर खाटू श्याम मंदिर का निर्माण होने से आवागमन बढ़ गया है तथा बड़ी संख्या में लोग बाहर से भी मुलताई आ रहे हैं जहां फोरलेन क्रास करके उन्हे मंदिर की ओर जाना पड़ता है एैसी स्थिति में फोरलेन पर संकेतक बोर्ड लगाना आवश्यक है। वहीं बिरूल बाजार मार्ग पर पहले से ही आवागमन होने तथा लगातार दुर्घटनाओं के बावजूद संकेतक लगाना उचित नही समझा जा रहा है जिसे लेकर नागरिकों में रोष व्याप्त है। फोरलेन बायपास पर बिरूल तथा सोनोली के पास संकेतक नही होने से फोरलेन पर बड़े वाहन फर्राटे से निकलते हैं इसी दौरान उक्त मार्ग से आने वाले वाहन बड़े वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। फोरलेन बायपास बनने के बाद उक्त दोनों मार्ग पर दुर्घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हुई है जिससे कई मौतें हो चुकी है जिसे लेकर कई बार शिकवा-शिकायत होने के बावजूद भी मेंटेनेंस करने वाली कंपनी द्वारा सुरक्षा के कोई कदम नही उठाए गए हैं। सोनोली मार्ग पर बढ़ा आवागमन सोनोली मार्ग पर खाटू श्याम मंदिर निर्माण होने के बाद आवागमन बढ़ गया है। मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के बाद से रोजाना सैकड़ों की संख्या में लोग मंदिर की ओर आवागमन करते हैं। इसलिए फोरलेन पर संकेतक लगाना आवश्यक हो गया है। हालांकि पूर्व से ही ग्रामीणों का आवागमन उक्त मार्ग पर चालू है लेकिन मंदिर निर्माण के बाद वाहनों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है इसलिए संकेतक लगाना आवश्यक हो गया है। हाईमास्ट सहित सर्विस रोड के हाल-बेहाल बायपास मार्ग पर जहां लगातार दुर्घटनाएं हो रही है वहीं मेन्टेनेंस के अभाव में रात्री में अधिकांश हाईमास्ट लाईट बंद रहते हैं जिससे मार्ग पर अंधेरा रहता है। विशेष रूप से फोरलेन से नगर की ओर जाने वाले मार्गों की ओर प्रकाश होना आवश्यक है लेकिन फोरलेन सहित उक्त मार्गों पर हाईमास्ट होने के बावजूद लाईट बंद रखे जाते हैं तथा कहीं-कहीं तो कुछ लाईट जलाए जाते हैं तथा बीच में कुछ लाईट बंद रहते है। एैसी स्थिति में जहां दुर्घटनाओं की संभावना बनी रहती है वहीं दुर्घटनाएं होने पर भी अंधेरे के कारण भारी परेशानी होती है। बताया जा रहा है कि संबन्धित कंपनी द्वारा मार्ग के रख रखाव में लापरवाही करने से अधिकांश सर्विस रोड भी रख-रखाव के अभाव में क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। पुराने संकेतक बोर्ड टूट कर गिर गए मैंटनेंस के नाम पर हाईवे पर संकेतकों की स्थिति बहुत खराब है, पुराने संकेतक टूृट कर गिर गए हैं, विभाग द्वारा इन्हें बदला नहीं जा रहा है और नए संकेतक भी नहीं लगाए जा रहे हैं, सबसे ज्यादा समस्या रात में हो रही है, संकेतक नहीं होने से कई बार बड़े हादसे हो चुके हैं और कई बार लोग अपनी जान गवां चुके है, लेकिन इसके बाद भी इस ओर किसी का कोई ध्यान नहीं है, ऐसे में लोगों द्वारा हाईवे पर टूटे हुए संकेतकों को बदलने की मांग की गई है।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now