BREAKING NEWS

सरकार की गलत नीतियों से देश में बढ़ रहा कुपोषण: कामरेड सिंधू

सरकार की गलत नीतियों से देश में बढ़ रहा कुपोषण: कामरेड सिंधू
बैतूल । आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका एकता यूनियन का दो दिवसीय छठवां राज्य स्तरीय सम्मेलन शनिवार से गंज धर्मशाला में आयोजित किया गया। सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में अखिल भारतीय आंगनवाड़ी वर्कर्स एंड फेडरेशन की राष्ट्रीय महासचिव एवं सीटू की राष्ट्रीय सचिव कामरेड एआर सिंधु, सीटू के प्रदेश अध्यक्ष कामरेड रामविलास गोस्वामी उपस्थित थे। सम्मेलन का शुभारंभ झंडा वंदन कर किया गया। सम्मेलन में उपस्थित सैंकड़ो आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने गंज धर्मशाला से विशाल रैली निकाली जो पेट्रोल पंप, बस स्टैंड होते हुए लल्ली चौक पर आमसभा के रूप में परिवर्तित हुई। इस दौरान यूनियन की प्रांतीय अध्यक्ष कामरेड विद्या खंगार की अध्यक्षता में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं की मांगो को जोर-शोर से उठाया गया। इस दौरान फेडरेशन के राष्ट्रीय महासचिव सीटू के प्रदेश अध्यक्ष कामरेड रामविलास गोस्वामी, सीटू के प्रांतीय महासचिव कामरेड प्रमोद प्रधान, बीमा कर्मियों के प्रदेश नेता कामरेड पीयूष भट्टाचार्य, एमपीएसआरयू के प्रदेश अध्यक्ष कामरेड संजय सिंह तोमर सहित अन्य वक्ताओं ने आमसभा को संबोधित किया। आमसभा को संबोधित करते हुए कामरेड एआर सिंधु ने कहा कि सरकार की गलत नितियों के चलते ही देश में कुपोषण बड़ रहा है। शून्य से पांच साल तक के बच्चों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने के बजाए सरकार कुपोषण को दूर करने के प्रचार के साथ ही अपना खुद का प्रचार कर रही है। कुपोषण भोजन के अभाव से नहीं है बल्कि सही तरीके से भोजन नहीं करने से होता है। सरकार द्वारा संचालित योजनाओं को जमीनी स्तर पर लाने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का प्रमुख योगदान होता है। बढ़ती आबादी में रोजगार के अभाव है जिसके चलते निर्धारित मात्रा में पौष्टिक भोजन नहीं मिल पा रहा है। कुपोषण को दूर करने आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्र में कार्य कर रही है। लेकिन सरकार इस योजना में बजट बढ़ाने के बजाए बजट में कटौती कर रही है। इसकी उन्होंने मंच से आलोचना की है। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी केन्द्र के माध्यम से वितरित किए जाने वाला पोषण आहार सरकार द्वारा सीधे हितग्राहियों के पास डाक के द्वारा पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। जिसके चलते इस राशि को देश के कुछ बड़े उद्योगपतियों के हवाले करने का षडय़ंत्र किया जा रहा है। मोदी सरकार की नीतियों का विरोध करते हुए कामरेड सिंधु ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा बनाए गए 100 दिन की कार्ययोजना में रक्षा उद्योगों सहित सभी सार्वजनिक उद्योगों का निजीकरण करने एशिया का सबसे बड़ा उद्योग भारतीय रेल का निजीकरण और बर्बाद करने का काम रही है। इसके चलते बेरोजगारी का इजाफा हो रहा है और देश आर्थिक मंदी के चपेट में है। वहीं मप्र कलनाथ सरकार द्वारा आंगनवाड़ी कर्मियों के वेतन में कटौती की गई है जो गलत है। जो मानदेय में बढ़ोत्तरी हुई है वह आंगनवाड़ी कर्मियों के संघर्ष के वजह से हुई है। प्रतिनिधि सत्र किया प्रारंभ आमसभा के बाद 4 बजे राधा कृष्ण धर्मशाला में सीटू के प्रांतीय महासचिव कामरेड प्रमोद प्रधान ने यूनियन का प्रतिनिधि सत्र का प्रारंभ किया। इस दौरान श्री प्रधान ने कहा कि सरकार की नीतियों से आंगनवाड़ी कर्मियों पर लगातार काम का बोझ और उन पर दबाव बढ़ रहा है। इसी दिशा में विभाग द्वारा अनुचित एवं अवैधानिक कार्यवाही की जा रही है। जिसका एकजूट होकर विरोध करना होगा। यूनियन को उन्होंने व्यवस्थित, संगठित करने पर बल देते हुए कहा कि इसके बिना संघर्ष को व्यापक बनाना कठिन होगा। सीटू का प्रयास है कि यूनियन के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ता में ऐसी क्षमता पैदा करे जिससे वे सम्मान जनक व्यवहार और जीने लायक बेहतर परिस्थिति को आगे बढ़ाने का संदेश दे सके। उन्होंने प्रतिनिधि सत्र में पिछले तीन वर्षो के काम की समीक्षा कर आने वाले वर्षो में ठोस योजना बनाने का आव्हान किया। मंच संचालन यूनियन प्रदेश अध्यक्ष व प्रांतीय महासचिव कामरेड किशोरी वर्मा ने किया। इस दौरान सैकड़ो कार्यकर्ताएं उपस्थित थी।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now