BREAKING NEWS

सर्चिंग के बाद पुलिया में बहे दो और मृतकों के मिले शव

सर्चिंग के बाद पुलिया में बहे दो और मृतकों के मिले शव
मुलताई। छिन्दवाड़ा हाईवे मार्ग से परसठानी की ओर जाने वाले मार्ग पर बुधवार की रात्रि में स्थित पुलिया से तीन युवक बाईक सहित बह गए थे। 24 घंटे तक चले एसडीईआरएफ के सर्चिंग अभियान के बाद शुक्रवार को दो और मृतकों के शव मिल गए, जिसके बाद उनके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। इधर इस हादसे के बाद प्रशासन द्वारा पारडसिंगा से महिलावाड़ी पहुंच मार्ग पर पडऩे वाली इस पुलिया पर दोनों ओर दो नाके लगाकर कर्मचारियों की तैनाती की है, जिससे पुलिया के ओव्हर-फ्लो होने पर लोगों को पुलिया पार करने से रोका जा सकें। यदि उक्त कार्रवाई पहले हो जाती तो उक्त हादसा होने से बच जाता, क्योंकि हर साल बारिश के दौरान इस तरह की पुलियाओं पर नाके लगवाएं जाते हैं। बुधवार रात की तूफानी बारिश से छिन्दवाड़ा हाईवे मार्ग से परसठानी की ओर जाने वाले मार्ग पर स्थित पुलिया से तीन युवक मुलताई निवासी लक्की बारंगे, खड़कवार निवासी रघुनाथ देशमुख तथा गजमलढाना निवासी कृष्णा डिगरसे बाईक सहित बह गए थे। गुरूवार की सुबह से एसडीईआरएफ की गोताखोर टीम बुलाकर मृतकों के शवों की तलाश की जा रही थी। इसी दौरान गुरूवार को ही मृतक रघुनाथ का शव मिल गया था, लेकिन लक्की और कृष्ण के शव नहीं मिल पाए थे। जिसके चलते शुक्रवार को भी इनके शवों की तलाश की गई। लगभग 24 घंटे तक चले इस सर्चिंग अभियान के बाद शुक्रवार को लक्की और कृष्णा के शव भी मिल गए। जिन्हें पीएम करवाकर उनके परिजनों को सौंपा जा रहा है। बताया जा रहा है कि लक्की पिता कैलाश बारंगे उम्र लगभग 22 वर्ष अपने दोस्त आकाश विश्वकर्मा एवं दीपेश धारपुरे के साथ परसठानी गया था, जहां से वह रात में वापस लौट रहा था। बारिश के कारण महिलावाड़ी के पास स्थित पुलिया पर से पानी जा रहा था इसलिए दोस्तों ने उसे पुलिया पार करने से मना किया लेकिन लक्की नहीं माना एवं पुलिया पार करने की जिद करने लगा इस पर दोनों दोस्त बाईक से उतर गए तथा लक्की बाईक से पुलिया पार करने लगा इसी दौरान पानी का तेज बहाव आने के कारण लक्की बाईक सहित बह गया था। वहीं खड़कवार निवासी रघुनाथ देशमुख तथा गजमलढाना निवासी कृष्णा डिगरसे भी बाईक सहित लापता थे। रघुनाथ मुलताई के कोआपरेटिव बैंक आया था, लेकिन बाद में उसका फोन बंद आ रहा था। जिसके बाद उसका शव बांध में मिला। हादसे के बाद की गई कर्मचारियों की तैनाती पारडसिंगा से महिलावाड़ी के बीच पडऩे वाली इस पुलिया पर हुए हादसे के बाद स्थानीय प्रशासन की नींद खुली है। एसडीएम सीएल चनाप द्वारा पुलिया के दोनों ओर नाके लगाने के आदेश दिए गए हैं एवं दोनों ओर कर्मचारियों की तैनाती की गई है। जिसमें पारडसिंगा की ओर मनोज बेले रोजगार सहायक, उमेश पिपरदे कोटवार, नंदकिशोर हिंगवे रोजगार सहायक एवं महिलावाड़ी की ओर पन्नालाल फरकाड़े जलसंसाधन विभाग एवं धुड़ल्या दौलत कोटवार को तैनात किया गया है। ढूंढ रहे थे लक्की का मिला रघुनाथ का शव बुधवार की रात इस पुलिया में लक्की के बहने की सूचना थी, इसी सूचना पर प्रशासन एवं टीम द्वारा सर्चिंग अभियान चलाया जा रहा था, लेकिन इसी दौरान खड़कवार निवासी रघुनाथ की बाईक मिल गई। जिसके बाद यह समझ आया कि लक्की के अलावा भी अन्य कोई पुलिया में बहा है, जिसके बाद रघुनाथ का शव भी मिल गया था। ग्रामीणों ने बताया कि रघुनाथ एवं कृष्णा भी बाईक सहित बहे हैं, इसकी जानकारी किसी को नहीं थी, वह तो सर्चिंंग के दौरान मिली बाईक से उक्त खुलासा हो पाया। बारिश काल बनकर टूट गई तीन परिवारों पर बुधवार की रात हुई तेज बारिश क्षेत्र के तीन परिवारों पर काल बनकर टूट गई। लक्की परिवार में कमाने वाला इकलौता था। उसके पिता कैलाश की मौत डेढ़ साल पहले हो चुकी है। लक्की मेडिकल स्टोर पर काम करके घर चलाता था, उसका एक भाई है, लेकिन वह छोटा है। इधर रघुनाथ किसानी कर अपना परिवार चलाता था, वहीं उसका एक पुत्र है। वहीं कृष्णा भी खेती करता था और परिवार चलाता था, लेकिन अब इनकी मौत से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मौत ने बैंक में मिलाया दोनों को बताया जा रहा है कि रघुनाथ और कृष्णा दोनों अलग-अलग बैंक आए थे, लेकिन मौत ने दोनों को बैंक में मिला दिया। बैंक में मिलने के बाद दोनों बैंक का काम निपटाने के बाद एक ही बाइक से परसाठानी की ओर जा रहे थे और पुलिया में बह गए। परिजनों के अनुसार रघुनाथ अकेला बैंक आया था, जिससे यह साफ है कि यह दोनों बैंक में मिले और दोनों यहां से साथ हो लिए और उक्त हादसे का शिकार हो गए।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now