BREAKING NEWS

10 घंटे के भीतर गौवंश से भरे 2 कंटेनर पकड़ाए

10 घंटे के भीतर गौवंश से भरे 2 कंटेनर पकड़ाए
मुलताई। मुलताई पुलिस द्वारा शुक्रवार को दस घंटे के अंतराल में मवेशियों से भरे दो कंटेनर जब्त किए गए है। इसमें सैकड़ों की संख्या में मवेशियों को बेहरमी से भरकर कतलखाने ले जाया जा रहा था। इस पूरे मामले में अचंभे की बात यह है कि पूरा मध्यप्रदेश पार कर लेने तक इतनी चौकियों और चैक-पोस्ट, नाके से निकलने के बाद भी किसी को इस बात की भनक नहीं लगी कि इन कंटेनरों में मवेशी है। यदि दोनों कंटेनर मुलताई पार कर लेते तो आसानी से कतलखाने तक पहुंच जाते। इस पूरे मामले से एक बात साफ है कि बिना किसी मिलीभगत के इतना बड़ा रास्ता तय नहीं किया जा सकता। बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने इस मामले में कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग की हैै। कड़े लॉक डाउन के बावजूद भी गौतस्करी का खुला खेल आसानी से चल रहा है। मुलताई पुलिस एवं ग्रामीणों की मदद से शुक्रवार को दस घंटे के भीतर गौवंश से भरे दो कंटनेर पकड़े गए हैं। जिससे एक बात साफ है कि बड़ी मात्रा में गौवंश को कतलखानों तक ले जाने का काम किया जा रहा है। इसके पूर्व भी कई बार इस तरह के ट्रक और बड़े वाहनों को पकड़ा जा चुका हैे। जिसकों लेकर ज्ञापन एवं आंदोलन भी हो चुके हैं, कभी मुलताई के रास्ते तो कभी सांईखेड़ा के रास्ते गौवंश से भरे वाहनों को बार्डर पार करवाई जाती है। यदि मध्यप्रदेश की सीमा में प्रवेश करते ही इन वाहनों की कड़ाई से जांच हो तो गौवंश पहले ही पकड़ाया जा सकता है, लेकिन ऐसे वाहनों की जांच नहीं हो रही है। जिसके परिणाम स्वरूप मध्यप्रदेश-महाराष्ट्र की सीमा पर बसे मुलताई में अक्सर इस तरह के कंटेनर पकड़े जाते है। गौवसेवक गणेश साहू का कहना है कि यदि पुलिस चाहे तो मध्यप्रदेश की सीमा में प्रवेश करते ही ऐसे वाहनों को पकड़ा जा सकता है, लेकिन सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय कर यह ट्रक महाराष्ट्र सीमा तक पहुंच रहे है। सभी गौ सेवकों ने इस मामले में कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग की है । कई बार जल चुके हैं ट्रक मुलताई क्षेत्र में अक्सर गौवंश से भरे वाहन पकड़ाए जाते हैं, ऐेसे में इन वाहनों को ग्रामीणों के गुस्से का शिकार भी होना पड़ता है। इसके पूर्व कई बार मवेशियों को बाहर निकालने के बाद वाहनों में आग लगाई जा चुकी है। ज्ञापन, धरने, प्रदर्शन भी हो चुके हैं। गौ तस्करों के हौसले इतने बुलंद है कि अब वह दिन के उजाले में नगर की सीमा को पार कर महाराष्ट्र में प्रवेश करना चाह रहे हैं। वह तो मुलताई पुलिस सजग थी, जिसके चलते ट्रक सीमा पार नहीं कर पाए। दोनों मामलों में दर्ज किया प्रकरण मुलताई एसडीओपी नम्रता सोंधिया ने बताया कि सुबह जो कंटेनर पकड़ा गया था, उसमें सात मवेशियों की मौत हो चुकी थी, क्योंकि मवेशियों को बेहरमी से भरा गया था, जिससे वह सांस तक नहीं ले पा रहे थे। उक्त मामले में मप्र गौवंश वध प्रतिषेध अधिनियम की धारा 4, 6, 9 एवं पशु कुु्ररता निवारण अधिनियम 11 घ के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। गौवंश की तस्करी करने वाले लोगों द्वारा मवेशियों का मुंह रस्सियों से बांध दिया जाता है। जिससे की वह रंभा ना सकें।

Betul News Copyright © 2020. All Rights Reserved

Chat Now